यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल को पीएम मोदी ने किया संबोधित, यूएस कंपनियों को निवेश के लिए दिया आमंत्रण

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम :  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका-भारत कारोबार परिषद (USIBC) द्वारा आयोजित ‘इंडिया आइडियाज समिट’को संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘इंडिया आइडियाज समिट’ को संबोधित करने के लिए आमंत्रित करने के लिए यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल को धन्यवाद दिया। पीएम मोदी ने कहा, मैं 45वीं वर्षगांठ पर USIBC को भी बधाई देता हूं। पिछले दशकों में USIBC ने भारतीय और अमेरिकी कारोबार को करीब लाया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ओपन माइंड और ओपन मार्केट दोनों का ही समर्थक है।

प्रधानमंत्री ने कहा, हर साल, हम एफडीआई में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच रहे हैं। प्रत्येक वर्ष पहले वाले की तुलना में काफी अधिक है। 2019-20 में भारत में एफडीआई प्रवाह 74 बिलियन डॉलर था। यह उससे पहले के वर्ष से 20 प्रतिशत की वृद्धि है। भारत के आगे बढ़ने का अर्थ है, एक ऐसे राष्ट्र के साथ व्यापार के अवसरों में वृद्धि, जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं। यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा आयोजित इंडिया आइडियाज शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, भारत आपको रक्षा और अंतरिक्ष में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। हम रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए FDI कैप को 74% तक बढ़ा रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत आपको एनर्जी सेक्टर में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। भारत खुद को गैस बेस्ड अर्थव्यवस्था में बदल रहा है। इस क्षेत्र में अमेरिकी कंपनियों के लिए काफी अवसर होंगे। क्लीन एनर्जी सेक्टर में भी अमेरिकी कंपनियों के लिए काफी अवसर होंगे। इसके अलावे मैन्युफैक्चरिंग  और हेल्थकेयर सेक्टर में निवेश की संभावनाओं के बारे में बताया।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर दोहराया कि भारत में निवेश का अवसर काफी बड़ा है। भारत आपको निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है। पीएम मोदी ने कहा, भारत ने हाल ही में कृषि क्षेत्र में ऐतिहासिक सुधार किए हैं। इसमें निवेश के अवसर हैं। कृषि इनपुट और मशीनरी, कृषि आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, रेडी-टू-ईट आइटम, मत्स्य पालन और जैविक उत्पाद।

बतादें कि भारत और अमेरिका के द्विपक्षीय कारोबार का आंकड़ा करीब 150 अरब डॉलर है। आज भारत में जहां करीब 800 अमेरिकी कंपनियां मौजूद हैं। वहीं अमेरिका के सभी 50 राज्यों में भारतीयों कंपनियों की उपस्थिति है।

Leave a Reply