फ़िर से पहले वाली सतर्कता दिखानी होगी, गरीबों का चूल्हा बंद नहीं होना चाहिएः प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि कोरोना महामारी से लड़ते हुए हम अनलाॅक-2 तक पहुंच चुके हैं लेकिन इसके साथ ही हम ऐसे समय में प्रवेश कर रहे हैं जहां सर्दी, खांसी, बुखार बहुत ज़्यादा होता है। ऐसे में हमें स्वयं को संभालने की जरूरी है। अगर हम मृत्यु दर को देखें तो वैश्विक स्तर पर भारत बहुत ही संभली स्थिति में स्वयं को पाता है। समय से लाॅकडाउन और देह की दूरी से हम इसे बहुत पसरने नहीं दिया लेकिन हमें अब और ज़्यादा सतर्क रहने की ज़रूरत है। ख़ासकर कंटेन्मेंट जोन में जो नियम का पालन नहीं कर रहे हैं उन्हें हमें रोकना, टोकना होगा। आप ने समाचार में देखा होगा कि एक देश के प्रधानमंत्री पर इसलिए 13 हज़ार का जुर्माना लगा दिया गया क्योंकि वे सार्वजनिक जगह पर बिना मास्क के गए थे। भारत में भी प्रशासन को इसी सतर्की से काम करना होगा। भारत के प्रधानमंत्री से लेकर ग्राम के प्रधान तक को इस नियम में आना चाहिए।
भारत में भी स्थानीय निकायों को इसी चुस्ती से काम करना होगा। ये 130 करोड़ भारतीयों के जीवन की रक्षा का अभियान है। भारत में गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है। लॉक डाउन में देश की पहली प्राथमिकता ये रही कि देश में ऐसी स्थिति न आये कि किसी गरीब कर घर में चूल्हा न जले। केंद्र या राज्य सरकार, सिविल सोसायटी के सभी लोगों ने पूरा प्रयास किया कि इतने बड़े देश में हमारा कोई भी गरीब भाई बहन भूखा न सोये। देश हो या व्यक्ति समय और संवेदनशीलता से फैसले लेने से उसकी शक्ति अनेक गुना बढ़ जाती है। इसलिए लॉक डाउन होते ही सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लेकर आई। इस योजना के तहत गरीबो के लिए पौने दो लाख करोड़ का पैकीज दिया गया। बीते 3 महीनों में गरीबों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपये जमा करवाये गए। प्रधानमंत्री ने कहा कि जुलाई से त्योहारों का समय शुरू हो जाता है। 5 जुलाई को गुरू पूर्णिमा है और ये सिलसिला छठ मईया की पूजा तक जारी रहता है, ऐसे में लोगों के खर्च बढ़ जाते हैं। इसलिए सरकार इस योजना को बढ़ाकर अब नवंबर तक करने जा रही है।
सरकार देश के गरीबो को डेढ़ लाख करोड़ का राहत पैकेज दिया है। सरकार 80 करोड़ लोगों को मुफ्त खाद्यान योजना चलाया, जिस पर 50 हजार करोड़ रुपया खर्च किया है। देश के 80 करोड़ लोगों के लिए मुफ्त खाद्यान योजना नवंबर तक आगे बढ़ा दिया गया है। जिसके तहत देश के 80 करोड़ लोगों को 5 किलो गेहूं, 5 किलो चावल और एक किलो चना का दाल मुफ्त में दिया जाएगा। यह सुविधा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत दिया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा हम इस तरह की योजना देश के किसानों और इमानदार करदाताओं की मदद से लागू किया है। अब देश भर में एक व्यकि एक कार्ड योजना पूरे देश लागू रहेगी।
प्रधानमंत्री के संबोधन की मुख्य बातें
1. प्रशासन और अधिक सतर्कता से काम करे
2. 3 महीने में जनधन खातों में 31 हजार करोड़ जमा कराए
3. किसानों के खातों में 18 करोड़ जमा कराए गए
4. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का विस्तार नवम्बर तक किया गया
5. ईमानदारी से टैक्स भरने वालों का देश हमेशा आभारी रहेगा
6. ईमानदार करदाताओं की वजह से ही मुफ्त राशन जैसी योजना सम्भव हो पाई
7. एक देश एक राशन कार्ड को देशबहर में फलीभूत करने का समय आ गया है
8. 2 गज की दूरी का पालन करते रहिए, लापरवाही न बरतें

Leave a Reply