सुशांत सिंह केस : महाराष्ट्र सरकार के पक्ष में खुलकर सामने आई कांग्रेस, कहा- संविधान दोबारा पढ़ें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम : लगता है अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस अब पूरी तरह से राजनीतिक मामला बनता जा रहा है। जिस तरह का रवैया महाराष्ट्र सरकार सुशांत केस में अपना रही है साथ ही बिहार पुलिस के अधिकारीयों के साथ जिस तरह का व्यवहार सामने आया। निश्चित रूप से संदेह के घेरे में है। सोमवार को कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने मुंबई पुलिस और बीएमसी को इस प्रकरण में आड़े हाथ लिया था और उनके कार्य प्रणाली पर हमला किया था। ठीक 24 घंटे भी नहीं बीते की इस मामले पर कांग्रेस खुलकर महाराष्ट्र सरकार के पक्ष में आ गई है। संजय निरुपम के बयान को नजरंदाज करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मामले को लेकर बड़ा बयान दिया है।

उन्होंने महाराष्ट्र पुलिस द्वारा सहयोग नहीं किए जाने के बिहार सरकार के आरोप पर बड़ा पलटवार किया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मंगलवार को जैसलमेर में कहा कि बिहार सरकार महाराष्ट्र के अधिकार क्षेत्र में दखलअंदाजी नहीं कर सकती। सुरजेवाला ने कहा कि इस देश का संविधान और कानून यह कहता है किसी प्रदेश के अंदर कानून व्यवस्था की जिम्मेवारी प्रदेश की सरकार की है। महाराष्ट्र में कानून व्यवस्था की पूरी जिम्मेवारी महाराष्ट्र सरकार की है।

सुरजेवाला ने राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल एसओजी की हरियाणा में हालिया कार्रवाई का जिक्र करते हुए कहा, ‘राजस्थान की एसओजी जब हरियाणा गई तो उसने हरियाणा पुलिस से संपर्क किया। पुलिस की जिम्मेदारी है कि वह उस संबद्ध प्रदेश की पुलिस से संपर्क करे, उनका सहयोग ले। यह नहीं कि कानून और संविधान की धज्जियां उड़ा दे।’

वहीं उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को संविधान दोबारा पढ़ना चाहिए। नीतीश कुमार या बिहार की सरकार जबरन पुलिस भेज कर महाराष्ट्र के अधिकार क्षेत्र यानी परिधि के अंदर दखलअंदाजी नहीं कर सकते क्योंकि अगर एक प्रांत की पुलिस दूसरे प्रांत के अंदर जाकर जांच करेगी तो फिर अराजकता फैल जाएगी। सुरजेवाला ने कहा कि ऐसे मामलों में दूसरे राज्य की पुलिस से संपर्क कर सहयोग लेना चाहिए।

वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि बिहार की पुलिस मुंबई में आकर जानकारी ले सकती है, जांच नहीं कर सकती। अगर आप समानांतर जांच करेंगे तो मुझे लगता है कि ये मुंबई पुलिस के साथ अन्याय होगा

बता दें कि सुशांत सुसाइड मामले की जांच के लिए मुंबई गए बिहार के आईपीएस विनय तिवारी को वहां जबरन क्वारेंटाइन किया गया है। जिसपर सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि यह अच्छा नहीं हुआ। वहीं उन्होंने आज इस मामले की सीबीआई जांच की अनुशंसा की है।

Leave a Reply