सुशांत केस : सीबीआई ने सुशांत और दिशा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट की शुरू की जांच

पटना, एमएम : एक तरफ सुशांत मौत मामले में रोज नए खुलासे हो रहे हैं। तो दूसरी तरफ राजनीतिक बयानबाजी भी तेज होती जा रही है। मगर इस सब के बीच सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआइ ने उनकी और उनकी पूर्व सेक्रेटरी दिशा सालियान की पोस्टमार्टम रिपोर्ट की जांच शुरू की है, ताकि मौत के कारणों की जांच को एक सही दिशा मिल सके। प्राप्त सूचना के अनुसार, दिशा का शव बिना कपड़ों के मिला था। फिर भी उसकी रिपोर्ट में रेप की बात की पूरी तरह से पुष्टि नहीं की गयी थी. इसी तरह से सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शरीर पर किसी तरह के गंभीर चोट का उल्लेख नहीं किया गया है, जबकि कई माध्यमों से यह पता चल रहा कि उसके शरीर पर चोट के निशान भी थे। इन तमाम बातों की सीबीआइ की टीम गहनता से जांच करेगी और जिस स्तर पर जो भी गड़बड़ी हुई है, उसे उजागर करेगी। बतादें कि मुंबई पुलिस ने दोनों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मुंबई जांच करने गयी बिहार पुलिस की टीम को नहीं दी थी। अब सीबीआई ने इस रिपोर्ट से जुड़े तमाम पहलुओं को लेकर गहन समीक्षा शुरू कर दी है।

इधर सुशांत के मामले में सीबीआइ की जांच धीरे-धीरे ही सही आगे बढ़ रही है। इसकी मुख्य वजह यह है कि वर्तमान में इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है और सुप्रीम कोर्ट ने अब तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि इस मामले की सुनवाई कौन करेगा। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच करने से सीबीआइ को मना भी नहीं किया है। इससे सीबीआइ के पास मामला ट्रांसफर होने के बाद उसने सामान्य तरीके से छानबीन की औपचारिकता शुरू कर दी है। सुप्रीम कोर्ट से इस मामले की जांच का अधिकारी अंतिम रूप से मिलने के बाद सीबीआइ के स्तर से इसमें काफी तेजी आने की संभावना है।

इधर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सीबीआइ ने लिखित जवाब दाखिल किया। इसमें उसने कहा है कि 56 गवाहों के बयान दर्ज करने की मुंबई पुलिस की कार्रवाई किसी कानून के आधार पर नहीं की गयी है। मुंबई में इससे संबंधित कोई केस या एफआइआर लंबित नहीं होने के कारण वहां इसे ट्रांसफर करने का कोई आधार नहीं बनता है। सुप्रीम कोर्ट को सीबीआइ और इडी को यह जांच जारी रखने देने की अनुमति देनी चाहिए।

इसके अलावा बिहार पुलिस, आरोपित रिया चक्रवर्ती और सुशांत के पिता की तरफ से भी सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिला किया गया है। रिया की तरफ से दाखिल जवाब में भी उसने सीबीआइ जांच पर आपत्ति नहीं दर्ज करायी है, लेकिन वह चाहती है कि इस केस का अधिकार क्षेत्र बिहार से बाहर या किसी क्षेत्र में नहीं रखा जाये। सीबीआइ को स्वतंत्र रूप से इसकी जांच का आदेश दिया जाये। बिहार की एफआइआर को आधार नहीं बनाया जाये।

Leave a Reply