झारखंड के दो राज्यसभा सीट पर चुनाव में झामुमो और भाजपा की जीत तय, कांग्रेस के लिए जीत की डगर कठिन

रांची, एमएम : कोरोना संकट के बीच राज्यसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग से हरी झंडी मिलने के बाद जिस राज्य में चुनाव होने हैं वहां राजनीतिक समीकरण अपने-अपने हिसाब से सभी दल बिठा रहें हैं। झारखंड में भी राज्यसभा की दो सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होने हैं। इसमें दो सीटों के लिए तीन प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। भाजपा से दीपक प्रकाश, झामुमो से शिबू सोरेन और कांग्रेस ने शहजादा अनवर को अपना प्रत्याशी बनाया है। आंकड़ों पैर गौर करें, तो झामुमो प्रत्याशी शिबू सोरेन की जीत तय है। वहीं भाजपा प्रत्याशी दीपक प्रकाश की जीत की राह आसान है, जबकि कांग्रेस के लिए जीत की डगर कठिन है।

झारखंड में राज्यसभा की दो सीटों के लिए सियासी दलों ने तैयारी तेज कर दी है। जीत की रणनीति के तहत हर दांव चले जा रहे हैं। मुलाकातों का दौर जारी है। आंकड़े अपने पक्ष में करने के लिए भाजपा, कांग्रेस और झामुमो की ओर से हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। अब तक के सियासी परिदृश्य से भाजपा और झामुमो के पक्ष में आंकड़े दिख रहे हैं। इससे इन दोनों राजनीतिक पार्टियों के प्रत्याशियों की जीत लगभग तय मानी जा रही है।

झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन के पास जीत के आंकड़े हैं। इन्हें जीत के लिए प्रथम वरीयता के 27 वोटों की जरूरत है, जबकि मुख्यमंत्री व पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन द्वारा दुमका सीट छोड़ने के बाद झामुमो के पास 29 विधायकों का वोट है। ऐसे में इनकी जीत तय है। वहीं भाजपा प्रत्याशी दीपक प्रकाश को जीत के लिए प्रथम वरीयता के 27 वोटों की जरूरत है। भाजपा के पास 25 विधायकों का वोट है। बाबूलाल मरांडी के भाजपा में शामिल होने के बाद संख्या 26 हो गई है। अब सिर्फ एक वोट की जरूरत है। भाजपा सांसद निशिकांत दूबे ने पूर्वी जमशेदपुर के विधायक सरयू राय से मुलाकात कर भाजपा को समर्थन देने का आग्रह किया है। वैसे आजसू ने भी भाजपा को समर्थन देने की बात कही है। ऐसे में भाजपा प्रत्याशी दीपक प्रकाश की जीत लगभग तय मानी जा रही है।

अब इस सब के बीच कांग्रेस प्रत्याशी शहजादा अनवर की जीत की राह मुश्किल हो गई है। माना जा रहा है कि अनवर कहीं एन वक्त पर अपनी दावेदारी वापिस ना ले लें। ऐसा यदि होता है तो कांग्रेस की किरकिरी होना तय है। इतना ही नही सवालों के घेरे में शीर्ष नेतृत्व भी आएंगे।

Leave a Reply