बिहार चुनाव में दिखेगा मिथिला पेंटिंग वाले मास्क की धूम, लोजपा ने दिया दो लाख मास्क का आर्डर

पटना, एमएम : कोरोना एक वैश्विक महामारी है। भारत जैसे देश भी इससे अछूता नहीं है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के इस विकट समय में कई व्यावसायिक गतिविधियां ठप हैं। इसने बेरोजगारी को बढ़ा दिया है। वहीं, मिथिला पेंटिंग की हर तरफ धूम है। खासकर मिथिला पेंटिंग वाले मास्क ने तो मानो इसका जैसे कायाकल्प ही कर दिया। इसकी मांग दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। अब तो नेताओं ने भी इसे अपना लिया है। लोक जनशक्ति पार्टी अपने नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिए दो लाख मिथिला पेंटिंग वाला मास्क खरीद रही है। इससे स्थानीयता का भाव और मजबूत होगा। मिथिला पेंटिंग के कलाकारों में इससे खुशी की लहर है।

बतादें कि अब आम लोगों से लेकर राजनीति के गलियारों तक में मिथिला पेंटिंग वाले मास्क की धूम है। कई कलाकार इसका श्रेय देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देते हैं। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री ने मिथिला की इस प्राचीन कला को देश-दुनिया में एक नई पहचान दी है। आज इस मास्क का बाजार काफी बड़ा हो चुका है। मिथिला पेंटिंग के लिए तो कोरोना काल काफी शुभकारी साबित हो रहा है।

राजनीतिक गलियारों से खबर मिल रही है कि इस बार के चुनावी समर में मिथिला पेंटिंग का काफी असर दिखने वाला है। नेता-कार्यकर्ता मिथिला पेंटिंग वाले मास्क पहन कर आमलोगों के बीच जाएंगे। वे ना केवल अपनी पार्टी का प्रचार करेंगे, बल्कि मिथिला की प्राचीन लोककला का भी इससे प्रसार होगा। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी ने इसकी पहल कर दी है।

वैसे लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान तो कई मौकों पर मिथिला पेंटिंग वाले मास्क पहने नजर भी आ चुके हैं। अब पार्टी ने मिथिला पेंटिंग वाला मास्क अपने नेताओं व कार्यकर्ताओं को बांटने का निर्णय ले लिया है। पार्टी का मानना है कि मिथिला क्षेत्र में उनका यह प्रयोग पार्टी के लिए काफी लाभकारी हो सकता है। ऐसा कर लोजपा लोगों के दिलों मे जगह बनाने में जुट गई है।

लोजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रो. विनोद कुमार सिंह ने बताया कि लोजपा का स्लोगन बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट वाला है। मिथिला पेंटिंग मास्क का आर्डर यहां के कलाकारों को दिया गया है। जिसकी आपूर्ति एक माह के अंदर ले ली जाएगी। स्थानीय कलाकारों को रोजगार के क्षेत्र में प्रोत्साहन देने के लिए इस मास्क की खरीदारी की योजना बनाई गई। मास्क के प्रयोग से कोरोना को हराया जा सकता है। इससे कलाकारों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।

ऐसा लगता है कि कोरोना संकट मिथिला पेंटिंग के लिए एक नया अवसर लेकर आया है। प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ से यह अवसर और बड़ा हो गया है। यूं तो यह कला पहले से देश-दुनिया में प्रसिद्ध थी, लेकिन इस बार इसे एक विस्तृत बाजार मिल रहा है।

Leave a Reply