सुशांत केस : CBI को केस सौंपे जाने के बाद मुंबई से वापस लौटी बिहार की एसआईटी, एसपी विनय तिवारी अब भी क्वारेंटाइन

पटना, एमएम : बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मौत के मामले की जांच अब सीबीआई करेगी। अब यह केस सीबीआई को ट्रांसफर किया गया है। केस ट्रांसफर किए जाने के बाद बिहार से मुंबई गई पटना पुलिस की एसआइटी वापस लौट आई है। एसआईटी के चारों पुलिसकर्मी फ्लाइट से गुरुवार को लौटे। हालांकि सिटी एसपी विनय तिवारी को अभी भी मुंबई में ही क्वारंटाइन में रखा गया है।

बतादें कि सुशांत की खुदकुशी मामले में उनके पिता केके सिंह की ओर से केस दर्ज कराया गया था। इसके बाद हरकत में आई पटना पुलिस ने करीब एक सप्ताह पहले सुशांत केस की जांच करने चार सदस्यों वाले पुलिस अधिकारियों की एसआईटी गठित कर उन्हें जांच के लिए मुंबई भेजा था। अब चुंकि सुशांत केस को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया है, लिहाजा बिहार की पुलिस जांच स्थगित कर वापस लौट आई है। पटना पुलिस की टीम अब अपनी जांच रिपोर्ट एसएसपी उपेन्द्र शर्मा को सौंपेगी।

ताजा जानकारी के मुताबिक टीम के सभी सदस्य आईजी संजय सिंह से मुलाकात किया और जांच के संबध में जानकारी दी।

मिल रही जानकारी के मुताबिक 27 जुलाई को मुंबई पहुंची पटना पुलिस की टीम ने सुशांत की बहन, अंकिता लोखंडे, फ़िल्म डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा और रूमी जाफरी, नौकर नीरज, गार्ड, कुक, दीपेश सावंत, सिद्धार्थ पिठनी सहित करीब 12 लोगों का बयान ले चुकी है। पुलिस ने सुशांत के मोबाइल की सीडीआर रिपोर्ट, बैंक स्टेटमेंट सहित अन्य सबूत भी जुटाए हैं। उसकी फाइल सुरक्षित रखने को कहा गया है। कोर्ट या सीबीआई द्वारा जब इन दस्तावेजों को मांगा जाएगा तो नियमानुसार उसे सौंप दिया जाएगा।

वहीं पटना के एसपी सिटी विनय तिवारी को क्वारंटाइन किए जाने को लेकर पटना के रेंज आईजी संजय सिंह के पत्र का जवाब बीएमसी के अफसर ने दिया है। बीएमसी के सहायक कमिश्नर पी वेलरासू ने आईजी को पत्र के जरिये कहा है कि सिटी एसपी को महाराष्ट्र सरकार के नियमों का पालन करना होगा। उन्होंने लिखा है कि बिहार में कोरोना संक्रमण फैला हुआ है। ऐसे में अगर एसपी में भी कोरोना के लक्षण हुए तो उनके जरिये दूसरे अफसरों को भी यह बीमारी फैल सकती है। लिहाजा वे अलग-अलग एप के माध्यम से महाराष्ट्र सरकार के अफसरों के साथ मीटिंग करें। इस पत्र के मिलने के बाद अब पटना पुलिस भी आर-पार के मूड में हैं। रेंज आईजी संजय सिंह ने कहा है कि वे अपने स्तर से दोबारा वहां के अफसरों से बात करेंगे।

बतादें कि बुधवार को बिहार के आईपीएस विनय तिवारी को जबरन क्वारंटाइन करने को लेकर सु्प्रीम कोर्ट की गंभीर टिप्पणी की थी। इसके बावजूद बीएमसी की ओर से आईपीएस को क्वारंटाइन मुक्त नहीं करने पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने ट्वीट करते हुए अफसोस जताया है।

गुप्तेश्वर पांडेय ने ट्वीट करते हुए लिखा कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ये गम्भीर टिप्पणी की गयी है कि बिहार के IPS विनय तिवारी को मुंबई में ज़बरदस्ती क्वारंटाइन किया जाना ग़लत है फिर भी बीएमसी ने उन्हें अभी तक उन्हें मुक्त नहीं किया है। वे सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं करते! अब इसको आप क्या कहेंगे? अफ़सोस!

Leave a Reply