बिहार में फिर ठनका गिरने से सात की मौत, आधा दर्जन लोग घायल

पटना, एमएम : बिहार में बारिश अब आफद बनती जा रही है।बारिश के साथ ठनका गिरने का सिलसिला थम नहीं रहा है। पिछले हप्ते भी ठनका की वजह से 103 लोगों की जान चली गई थी। आज बिहार के विभिन्न जिलों में सुबह से रुक रुक कर बारिश हो रही है। इस बारिश के दौरान दो ज़िलों में ठनका गिरने से सात लोगों की मरने की खबर मिल रही है।

आज फिर बिहार में आकाश से आपदा बरसी। मंगलवार की दोपहर में वज्रपात से सात लोगों की मौत हो गई है। पांच लोगों की मौत सारण जिले में हुई है, जबकि दो की मौत नवादा जिले में हुई है। बताया जाता है कि सारण जिले में वज्रपात से मरने वाले लोगों में गरखा के चार लोग हैं, जबकि एक मकेर का है। वहीं, नवादा बाइपास में भी वज्रपात से दो की मौत हो गई है। मृतक योगेंद्र यादव मंगर बिगहा के रहने वाले थे। भैंस चरा रहे थे, तभी वज्रपात (ठनका) की चपेट में वह आ गया।

सारण में बारिश के साथ वज्रपात से दो महिलाओं समेत पांच लोगों की मौत हो गई। वहीं, दो महिलाओं समेत चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। गड़खा के महम्मदा बथानी गांव में वज्रपात से एक महिला व एक बच्चा समेत तीन की मौत हो गई। इसमें कामेश्वर राय की पत्नी सरोज देवी (45), ठाकुर राय (61) तथा बिहारी राय के 10 वर्षीय पुत्र रवि कुमार शामिल हैं। गड़खा के ही रामगढ़ा में खेत में काम कर रहे 53 वर्षीय रामायण साह की मौत ठनका से हो गई। दो अन्य घायल हो गए। वहीं मकेर के पश्चिम ठहरा गांव में राजकुमार साह की 38 वर्षीय पत्नी निर्मला देवी की जान ठनका गिरने से हो गई।

बताया जा रहा है कि महम्मदा बथानी गांव में कोरोना जांच के लिए मेडिकल टीम पहुंची थी। गांव के 150 लोगों का सैंपल लिया जाना था। इसको लेकर काफी भीड़ थी। कुल एक सौ लोगों का कलेक्शन लिया गया था, तभी बारिश आ गई। इसके बाद लोग आसपास की झोपड़ी में और अन्य शेड के नीचे छिप गए। इसी दौरान बिजली गिरने से तीन की मौत हो गई। इसके बाद अफरातफरी मच गई। मेडिकल टीम भी भाग खड़ी हुई। सूचना पाकर मौके पर पुलिस पहुंची। तीनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

Leave a Reply