मुसलाधार बारिश से उत्तर बिहार में मंडराने लगा बाढ़ का खतरा, कई नदियों के जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर

पटना, एमएम : बिहार में मानसून आने के बाद लगातार विभिन्न जिलों में झमाझम बारिश हो रही है। नेपाल और आसपास के सीमाई क्षेत्रों में बुधवार की देर रात से हो रही मूसलधार बारिश ने उत्तर बिहार के बाढ़ प्रभावित जिलों की चिंता बढ़ा दी है। गुरुवार को तो बागमती, गंडक, बूढ़ी गंडक, गंगा समेत अधवारा समूह की नदियां खतरे के निशान से बहुत कम नीचे रहीं, पर शुक्रवार से एक बार फिर जलस्तर में वृद्धि के साथ खतरा बढ़ने की आशंका है। अगले 29 जून तक भारी बारिश के आसार को देखते हुए आपदा व जल संसाधन विभाग की टीम ने सुरक्षात्मक प्रबंधों को तेज कर दिया है।

मुजफ्फरपुर में बागमती, गंडक व बूढ़ी गंडक का जलस्तर खतरे के निशान से नीचे है। हालांकि बेनीबाद में बागमती का जलस्तर 48.26 मीटर पर रहा जो लाल निशान की ओर बढ़ रहा है। वहीं सिकंदरपुर में बूढ़ी गंडक का जलस्तर 46.16 मीटर रिकार्ड किया है। तटबंधों पर जलदबाव और रेन कट के खतरे को नजरंदाज नहीं किया जा सकता। वहीं चंपारण में वाल्मीकिनगर बराज से सुबह दस बजे 83,500 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। पश्चिम चंपारण में सिकरहना व पंडई के जलस्तर में बढ़ोतरी हो रही है। भारी बारिश से पूर्वी चंपारण में बाढ़ का खतरा बढ़ने लगा है। यहां गंडक के जलस्तर में वृद्धि जारी है। अरेराज, संग्रामपुर, केसरिया के सरेह में पानी फैल रहा है।

मिथिला क्षेत्र के दरभंगा, मधुबनी व सीतामढ़ी से गुजर रही नदियों के जलस्तर में लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है। दरभंगा क्षेत्र के बेनीबाद में बागमती का जलस्तर 48.19 मीटर पर स्थिर है। हायाघाट में बागमती का जलस्तर 42.19 मीटर पर स्थिर है। कमतौल में अधवारा नदी घटकर 46.26 मीटर पर आ गई है। एकमीघाट में नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी है यहां जलस्तर 42.80 मीटर पर है। कमला नदी का जलस्तर सोनवर्षा सीतामढ़ी में सुबह से ही 79.24 मीटर पर स्थिर है जबकि जयनगर में यह बढ़कर 67.52 मीटर एवं झंझारपुर में भी यह बढ़कर से ही 48.87 मीटर पर पहुंच गया है। मधुबनी में कमला, कोसी, बलान एवं अधवारा समूह की सभी नदियां गुरुवार को खतरे के निशान से नीचे रहीं। कमला नदी झंझारपुर में खतरे के निशान से करीब 70 सेंटीमीटर नीचे रिकार्ड किया गया। कोसी नदी का जलस्तर अभी स्थिर है।

कोसी बराज से गुरुवार दोपहर 12 बजे 1.25 लाख क्यूसेक पानी नदी में छोड़ा गया। वीरपुर (सुपौल) बराज पर जलस्तर बढ़ने की स्थिति में हैं। बराज व बराह नेपाल दोनों जगह जलस्तर बढ़ रहा है। बाढ़ प्रमंडल के अभियंता लगातार नदियों पर  नजर रखे हुए हैं। सीतामढ़ी में बागमती नदी का जलस्तर कई स्थानों पर बढ़ रहा है। वृद्धि के बावजूद बागमती खतरे के निशान से नीचे है। बागमती नदी का जलस्तर ढ़ेंग व सोनाखान में बढ़ रहा है। चंदौली व कटौझा में जलस्तर में कमी आ रही है। अधवारा समूह की नदियों का जलस्तर सोनबरसा, पुपरी, सुंदरपुर में स्थिर है।

हालांकि गंगा के जलस्तर में गुरुवार को भी वृद्धि जारी रही। पिछले 24 घंटे में गंगा के जलस्तर में 22 सेमी की बढ़ोत्तरी हुई है। दोपहर में गंगा का जलस्तर 42.61 मीटर पर रिकार्ड किया गया। समस्तीपुर जिले से गुजरने वाली सभी नदियां अभी खतरे के निशान से नीचे हैं। बूढ़ी गंडक स्थिर है।

Leave a Reply