कोरोना के कारण रोज नहीं चलेंगी स्पेशल ट्रेनें, कुछ ट्रेनों को किया साप्ताहिक

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम : कोरोना का कहर के चलते लोगों का जन जीवन वैसे ही अस्त-व्यस्त है। लोग मजबूरी में ही घर से बाहर निकल रहें हैं। रेल पर अभी भी ब्रेक लगा हुआ है। मात्र 100 जोड़ी स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। जाहिर है जहाँ हजारों की संख्या में ट्रेन चलती थी वहां 100 जोड़ी से क्या होगा। फिर भी लोग जैसे तैसे सफर कर रहे हैं। अब रेलवे के एक फैसले से कुछ ट्रेनों को दैनिक से साप्ताहिक कर दिया गया है।  रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक मुम्बई और अहमदाबाद से बंगाल की ट्रेनों के फेरे दैनिक से घटाकर साप्ताहिक कर दिया गया है। बंगाल में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए व राज्य सरकार के अनुरोध पर पूर्व व दक्षिण पूर्व रेलवे ने हावड़ा से खुलनेवाली कुछ स्पेशल ट्रेनों को अब साप्ताहिक कर दिया है। रेलवे के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. ही कि ट्रेन संख्या  02834/02833- हावड़ा-अहमदाबाद एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन 10 जुलाई से रोजाना के बदले सिर्फ सप्ताह में एक दिन शुक्रवार को हावड़ा से और 13 जुलाई से सोमवार को अहमदाबाद से खुलेगी।

वहीं ट्रेन संख्या 02810/02809- हावड़ा-मुंबई सीएसटीएम स्पेशल ट्रेन रोजाना के बदले 15 जुलाई से हावड़ा से हर बुधवार को और 17 जुलाई से मुंबई सीएसएमटी से हर शुक्रवार को खुलेगी। ट्रेन संख्या  02303- हावड़ा-नयी दिल्ली स्पेशल ट्रेन (वाया पटना) 11 जुलाई से सिर्फ शनिवार को हावड़ा से रवाना होगी। बतादें कि अभी यह ट्रेन सप्ताह में चार दिन चल रही है। 02304- नयी दिल्ली- हावड़ा स्पेशल (वाया पटना) 12 जुलाई से सिर्फ रविवार को नयी दिल्ली से रवाना होगी। अभी यह ट्रेन सप्ताह में चार दिन चल रही है। वहीं  02381- हावड़ा-नयी दिल्ली स्पेशल (वाया धनबाद) 16 जुलाई से सिर्फ गुरूवार को हावड़ा से खुलेगी।

तो 02382- नयी दिल्ली- हावड़ा स्पेशल (वाया धनबाद) 17 जुलाई से सिर्फ शुक्रवार को नयी दिल्ली से खुलेगी। यह ट्रेन अभी सप्ताह में तीन दिन चल रही है। रेल मंत्रालय द्वारा जारी निर्देश के अनुसार दक्षिण पूर्व रेलवे  ने प्रधान कार्यालय व सभी डिवीजनों मे बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट का गठन किया है. दक्षिण पूर्व रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार, यूनिट का लक्ष्य वर्तमान परिस्थित में माल ढुलाई की क्षमता में वृद्धि करना रहेगा।

साथ ही व्यापार एवं उद्योग जगत के लोगों के साथ समन्वय स्थापित कर अधिक से अधिक माल लदान के लिए उन्हें प्रोत्साहित करना एवं माल ढुलाई में आ रही समस्याओं का निदान करना है। इस यूनिट के बनने से व्यापार एवं उद्योग क्षेत्र के लोगों को एक नया एवं आसान प्लेटफॉर्म उपलब्ध होगा. तथा समय पर यूनिट के सदस्य व्यापारियों, उद्द्यमियों एवं छोटे व मध्यम वर्ग के व्यवसायियों से मिलेंगे।

Leave a Reply