भूखे रात बिताने को मजबूर हैं लोग, हेलिकॉप्टर से दरभंगा, पूर्वी चंपारण, मधुबनी और गोपालगंज के सुदूर इलाकों में पहुंचाई जा रही है राहत सामग्री

दरभंगा/मधुबनी, एमएम : बिहार बाढ़ को लेकर अभिशप्त है। हरेक साल बिहार में बाढ़ तबाही मचाता है। जिससे जान माल के साथ-साथ फसलों की भी बर्बादी निश्चित है। इस साल भी उत्तर बिहार के 10 जिले बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित है। जिस कदर बाढ़ बाढ़ बिहार में उत्पात मचा रहा है करीब 10 लाख की आबादी इसकी चपेट में आ चुकी है।

बिहार में बाढ़ का खतरा तेजी से गहराता जा रहा है। राज्य के कई जिले बाढ़ की चपेट में आ चुके है। वहीं प्रदेश में अब राहत कार्यों के लिए भारतीय वायुसेना की भी मदद ली जा रही है। भारतीय वायुसेना ने बिहार के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में हेलीकॉप्टरों द्वारा राहत एवं बचाव कार्य प्रारंभ कर दिया है। आज दरभंगा, पूर्वी चंपारण, मधुबनी एवं गोपालगंज के सुदूर इलाकों में हेलिकॉटर के द्वारा राहत सामग्री पहुंचाई गई। दरभंगा के जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन के अनुसार, आज रविवार को हेलीकॉप्टर के द्वारा सदर एवं सिहवाड़ा के प्रभावित क्षेत्रों में राहत का पैकेट गिराया गया है।

बतादें कि शनिवार को भी जिले के कई इलाकों में राहत सामग्री बांटी गई थी। उपलब्ध कराए गए 1050 राहत पैकेट कुशेश्वरस्थान पूर्वी एवं केवटी प्रखंड के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में लोगों के बीच बांटे गये। हेलीकॉप्टर द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में कुशेश्वरस्थान पूर्वी प्रखंड के सुघराईन गांव में 200 पैकेट, तिलकेश्वर गांव में 250 पैकेट एवं केवटी प्रखंड के बगडीहा गांव में 300 पैकेट तथा चक्कर गांव में 300 सूखा राशन शनिवार को गिराया गया। इस अवसर पर डीएम ने खुद हेलीकॉप्टर पर मौजूद रहकर राहत शिविर, वितरण कार्य एवं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया। वहीं मधुबनी के बेनीपट्टी प्रखंड के कई इलाकों में  बाढ़ ने तांडव मचा रखा है। करहारा पंचायत बहुत प्रभावित है। वहीं मधेपुर प्रखंड के कई हिस्से बाढ़ से डूबे पड़े हैं। इन क्षेत्रों में वायुसेना अब हेलीकाप्टर के माध्यम से राहत सामग्री पहुंचा रही है।

Leave a Reply