बिहार चुनाव : लोजपा ने ठोका 42 सीटों पर दावा, भाजपा-जदयू बोली- समय आने पर होगा फैसला

पटना, एमएम : बिहार में जैसे-जैसे चुनाव का समय नजदीक आते जा रहा है राजनीतिक हलचल तेज होती जा रही है। बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर दोनों प्रमुख गठबंधनों में सीट शेयरिंग  को लकर सरगर्मी तेज होती जा रही है। राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंघन यानि एनडीए में लोक जनशक्ति पार्टी सबसे पहले 42 सीटों पर दावेदारी के साथ समाने आयी है। एलजेपी की इस दावेदारी पर भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड  ने सधी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि समय आने पर सभी मुद्दों पर विचार कर लिया जाएगा।

बतादें कि एनडीए में सबसे पहले एलजेपी ने सीटों को लेकर अपनी दावेदारी पेश की है। 42 सीटों पर दावा करते हुए एलजेपी के प्रवक्‍ता संजय सिंह ने कहा कि इससे कम सीट का सवाल ही नहीं है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पहले ही आश्वस्त किया है की पार्टी ने जितनी सीटों पर 2015 में चुनाव लड़ा था उतनी तो मिलेगी ही। उन्‍होंने कहा कि बीते लोकसभा चुनाव में एलजेपी और बीजेपी का स्ट्राइक रेट सौ फीसदी रहा। जबकि, जेडीयू एक सीट हार गया था। इसके अनुसार उन्‍होंने कहा कि एलजेपी को 42, बीजेपी को 105 और जेडीयू को 96 सीटें मिलनी चाहिए।

उधर, एलजेपी के 42 सीटों के दावे से एनडीए में खलबली मच गई है। बीजेपी के प्रवक्ता ने कहा सभी दल अधिक से अधिक सीटों पर लड़ना चाहते हैं। एनडीए में सीट मिलना जीत की गारंटी है। किस पार्टी को कितनी सीटें मिलेगी और कौन कहां से लड़ेगा, ये फिलहाल कोई मुद्दा नहीं है। समय आने पर सब तय कर लिया जाएगा। जेडीयू की तरफ से मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि एलजेपी को अपनी बात रखने का अधिकार है। सभी मामले हल हो जाएंगे। एनडीए में कोई विवाद नहीं है।

विदित हो कि बीते कुछ समय से एलजेपी व जेडीयू के बीच तनाव है। एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर सरकार के कामकाज को लेकर लगातार हमलावर हैं। इसे वे मुख्‍यमंत्री पर हमला नहीं मान कर जनता की समस्‍याएं उन तक पहुंचाना बता रहे हैं।

Leave a Reply