बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बड़ा बयान- सुशांत के पिता CBI जांच की मांग करेंगे तो बिहार सरकार करेगी सिफारिश

पटना, एमएम : अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मौत हुए करीब दो महीने होने वाले हैं। लेकिन यह मामला अभी भी शांत होता नहीं नजर आ रहा है। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में शनिवार को बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश सरकार ने बड़ी बात कही है। उन्‍होंने कहा है कि अगर सुशांत के पिता सीबीआइ जांच की मांग करते हैं तो सरकार इस दिशा में आगे बढ़ सकती है। बिहार सरकार में मंत्री संजय कुमार झा ने भी कहा है कि सरकार चाहती है कि सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड की सच्चाई सामने आए और उनके परिवार को न्याय मिले। इसके लिए अगर परिवार चाहता है तो सरकार सीबीआइ जांच कराने के लिए तैयार है।

बतादें कि बीते 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत मुंबई स्थित अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे। सुसाइड माने गए इस मामले में मुंबई पुलिस की जांच से सुशांत का परिवार असंतुष्‍ट है। अब सुशांत के पिता ने बेटे की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती पर धन उगाही, ब्‍लैकमेल, सुसाइड के लिए उकसाने तथा प्रताड़ना सहित कई गंभीर आरोप लगाते हुए पटना में एफआइआर दर्ज करा दी है। सुशांत के परिवार के अनुसार उसने मामले की सीबीआइ जांच की मांग नहीं की है। परिवार चाहता है कि जांच पटना पुलिस करे। ऐसे में सरकार सीबीआइ जांच के लिए परिवार की सहमति मिलने पर राजी है।

सुशांत सिंह राजपूत के मौत की सीबीआइ जांच को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि यह बिहार का मामला नही, इसलिए राज्‍य सरकार अपनी ओर से कुछ नहीं कर सकती। सुशांत के पिता ने एफआइआर दर्ज किया है, जिसकी पुलिस जांच कर रह रही है। अगर सुशांत के पिता सीबीआइ जांच के लिए कहते हैं तो सरकार इस दिशा में आगे बढ़ सकती है। इस बाबत मंत्री संजय झा ने कहा है कि अगर सुशांत के परिवार के लोग मांग करेंगे तो सरकार अनुशंसा करने में देर नहीं करेगी। संजय झा ने कहा कि अभी तक सुशांत के परिवार वालों ने बिहार सरकार से ऐसी कोई मांग नहीं की है। इसलिए सरकार अपनी ओर से कदम नहीं बढ़ा रही है।

सरकार ने स्वीकार किया कि इस मामले में मुंबई पुलिस का रवैया टालमटोल का है। न तो वह खुद निष्पक्ष जांच कर रही है और न ही बिहार पुलिस को सहयोग कर रही है। पटना में एफआइआर दर्ज होने के बाद बिहार पुलिस की एक टीम जांच के लिए मुंबई गई हुई है। किंतु, महाराष्ट्र पुलिस का अपेक्षित सहयोग नहीं मिल रहा है। निष्पक्ष जांच के लिए बिहार पुलिस को मुंबई में जिन-जिन दस्तावेजों की जरूरत है, उन्हें उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। मुंबई पुलिस का व्यवहार भी बिहार पुलिस के साठ ठीक नहीं है।

 

Leave a Reply