यूपीएससी परीक्षा में उत्तर बिहार के मिथिला क्षेत्र के परीक्षार्थियों ने मारि बाजी, दर्जनों छात्रों ने लहराया सफलता का परचम

पटना, न्यूज़ डेस्क, एमएम : मंगलवार को  सिविल सेवा परीक्षा 2019 के परिणाम घोषित कर दिए गए हैं। इस बार इसमें उत्तर बिहार के परीक्षार्थियों ने अपनी प्रतिभा का शानदार प्रदर्शन किया है। सीतामढ़ी के नानपुर, बेला के दीपांकर चौधरी ने 42वीं रैंक हासिल कर जिले का नाम रोशन किया है। वहीं परिहार प्रखंड के मुजौलिया राजपूत टोला के रहने वाले अक्षय रंजुमेश (विक्की) ने 595वीं रैंक हासिल की है। जिला मुख्यालय डुमरा स्थित अमघट्टा रोड के आदित्य सौरभ को 495वहीं रैंक मिली है।

वहीं मधुबनी जिला अंतर्गत बाबूबरही प्रखंड के सुधा विक्रेता के बेटे ने प्रथम प्रयास में ही बाजी मार ली। प्रखंड के बरुआर निवासी सुधा विक्रेता मनोज कुमार व गृहिणी ममता देवी के पुत्र मुकुंद कुमार ने यूपीएससी में 54वीं रैंक हासिल की है। दूसरी ओर, समस्तीपुर के धुरलक निवासी शिक्षक बिपिन मिश्रा के पुत्र राहुल मिश्रा को सिविल सर्विस की परीक्षा में 202 वीं रैंक मिली है। राहुल इसके पूर्व आइआइटी से पास होकर छी माह तक किसी मल्टीनेशनल कम्पनी में नौकरी भी कर चुके हैं। वही समस्तीपुर के सत्यम की 169 रैंक आई है। उनके पिता विजय चौधरी हैं। वह विधान सभा का चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़ चुके हैं।

वहीं भागलपुर के चिकित्सक डॉ. नरेंद्र जैन की बेटी विशाखा जैन ने पहले प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा में 101 वां रैंक लाकर जिले का नाम रोशन की है। पूरे जैन समाज में खुशी का माहौल है। बतादें कि विशाखा की शादी वर्ष 2019 में स्मिथ जैन से हुई है। वह गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं। विशाखा ने आईपीएस कैडर चुना है।

दूसरी तरफ भागलपुर के ही श्रेष्ठ अनुपम को यूपीएससी में 19 वां रैंक आया है। वे दिल्ली आईटाईटी से कैमिकल इंजीनियर हैं। उन्होंने दूसरे प्रयास में बाजी मारी है। अनुपम ने बताया कि पहली बार वे बिना किसी तैयारी हुए थे। इस बार उन्हें सफल होने का पूरा विश्वास था।

दरभंगा के हायाघाट प्रखंड के सहोड़ा के रिटायर्ड इंजीनियर रामसेवक बैठा व रिटायर्ड सीडीपीओ इंदू कुमारी के बेटे कुमार निशांत विवेक ने यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल की है।
उन्होंने 404वां रैंक लाकर जिले का नाम रोशन किया है। उन्होंने एससी कोटे से परीक्षा दी थी। उनके पिता ने 10 वर्ष पहले ही एलान किया था कि वे अपने बेटे को आईएएस बनाएंगे। आईआईटी कानपुर से पासआउट निशांत ने अपने पहले प्रयास में ही यह सफलता हासिल की है।

वहीं किशनगंज के अनिल बसाक ने सिविल सर्विस की परीक्षा पास कर जिले का नाम रौशन किया है। इनका जीवन काफी संर्घषों से भरा रहा, लेकिन नजरें लक्ष्य पर टिकी थी। परिणाम आज सबके सामने है।

अनिल बसाक मूलरूप से किशनगंज जिले के ठाकुरगंज प्रखंड के खारूदह के रहने वाले हैं। अनिल को यह सफलता कठिन परिश्रम से मिली है। 2019 में उन्होंने फिर यूपीएससी की परीक्षा दी और 616वां रैंक हासिल किया।

एक तरफ पिछले बार 93 रैंक पाए गोपालगंज के रहने वाले प्रदीप सिंह ने इस बार 26 वीं रैंक हासिल की हैं। प्रदीप का सलेक्शन पिछले साल भी हुआ था। उस बार उन्हें 93 वां स्थान मिला था।

बक्सर जिले के नावानगर का अंशुमन राज ने यूपीएससी में 107 वा स्थान प्राप्त किया । तीसरी बार मे उन्हें यह मिली सफलता। अंशुमन नवोदय विद्यालय बक्सर से ही किये थे इंटर तक की पढ़ाई।

3 Replies to “यूपीएससी परीक्षा में उत्तर बिहार के मिथिला क्षेत्र के परीक्षार्थियों ने मारि बाजी, दर्जनों छात्रों ने लहराया सफलता का परचम”

  1. सभी छत्रों को बहुत बहुत बधाई व शुभकामनाएं दोस्तों….. प्रतीदिन एैसे तरक्की करते रहो।
    जय श्री राम!!!!!???

Leave a Reply