प्राणायाम कोरोना से लड़ने में करता है मदद, दुनियां में बढ़ रहा है योग के प्रति झुकाव : प्रधानमंत्री मोदी

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम :  आज यानि 21 जून है।  21 जून को ही अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जता है। भारत समेत दुनियाँ के तमाम देशों में आज योग किया गया। इस  अवसर पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दुनिया को योग की आवश्यकता का एहसास हो रहा है और आज कोरोना वायरस महामारी के दौरान प्राणायाम एक मजबूत रेस्पिरेटरी सिस्टम के निर्माण में मदद करता है।

बतादें कि प्राणायाम एक सांस लेने का व्यायाम है जिसका आमतौर पर योग आसनों के बाद अभ्यास किया जाता है। यह पहली बार है, जब डिजिटल प्लेटफॉर्म पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम आयोजित किए गए।

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज विश्व कोरोना वायरस की महामारी के कारण योग की आवश्यकता को और भी अधिक महसूस कर रहा है। अगर हमारी इम्युनिटी मजबूत है तो यह बीमारी से लड़ने में मदद करता है। योग करने से हमारी इम्युनिटी बढ़ती है और मेटाबोलिज्म में सुधार होता है। पीएम मोदी ने छठे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का ये दिन एकजुटता का दिन है। ये विश्व बंधुत्व के संदेश का दिन है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब हम योग के माध्यम से समस्याओं के समाधान और दुनिया के कल्याण की बात कर रहे हैं, तो मैं योगेश्वर कृष्ण के कर्मयोग का भी आपको पुनः स्मरण करना चाहता हूं। गीता में भगवान कृष्ण ने योग की व्याख्या करते हुए कहा है- ‘योगः कर्मसु कौशलम्’अर्थात, कर्म की कुशलता ही योग है।

लोगों से की अपील

प्रधानमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि प्राणायाम को अपने प्रतिदिन के अभ्यास में जरूर शामिल करिए, और अनुलोम-विलोम के साथ साथ दूसरे प्राणायाम को भी सीखिए। बच्चे, बड़े, युवा, परिवार के बुजुर्ग, सभी जब एक साथ योग के माध्यम से जुडते हैं, तो पूरे घर में एक ऊर्जा का संचार होता है। इसलिए, इस बार का योग दिवस, भावनात्मक योग का भी दिन है।

बतादें कि 27 सितंबर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस प्रस्तावित किया गया था। और इसके मंजूरी के बाद  21 जून 2015 से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है।

Leave a Reply