झारखंड का कोई भी किसान-मजदूर नहीं मरेगा, सरकार कि सारी व्यवस्था किसान-मजदूर को समर्पित : हेमंत सोरेन

राँची, एमएम : झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि हमारी सरकार की सारी व्यवस्था मजदूरों और किसानों को समर्पित है। मैं खुद मजदूर-किसान का बेटा हूं। कोई मजदूर किसान नहीं मरेगा, चाहे इसके लिए मुझे अपनी जान ही क्यों न देनी पड़े। दुमका में शनिवार को भारत-चीन सीमा पर सड़क निर्माण के लिए झारखंड के 1648 मजदूरों को स्पेशल ट्रेन से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रवाना किया। इसी दौरान उन्होंने ये बातें कही। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा मजदूरों को ट्रेन से उधमपुर ले जाया जाएगा, वहां से बस के जरिए लद्दाख भेजा गया।

सीमा सड़क संगठन के साथ झारखंड सरकार ने किया एमओयू

मजदूरों को सीमा पर सड़क बनाने के लिए ले जाने के लिए शनिवार को मुख्यमंत्री की मौजूदगी में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) और झारखंड सरकार के श्रम विभाग के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ। मौके पर श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता,श्रम विभाग के सचिव राजीव अरुण एक्का,सीमा सड़क संगठन के एडीजी अनिल कुमार और दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी भी मौजूद रहे।

दुमका रेलवे स्टेशन पर मजदूरों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे राज्य में हो या राज्य से बाहर, हम श्रम कानूनों को कड़ाई से लागू करेंगे। मजदूरों का जो हक है, उन्हें मिलना चाहिए। अगर मजदूरों को उनका असली हक नहीं मिला तो सरकार कार्रवाई करने में पीछे नहीं रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे मजदूरों का दिल्ली और मुंबई में भी शोषण होता है। बिचौलियों और दलालों का एक बड़ा गैंग काम कार रहा है, जो मजदूरों का अधिकार झपट लेता था। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना ने हमारे लिए अवसर दिया है। अवसर के रूप में राज्य के श्रमिक किसान भाइयों के साथ सरकार की संवेदनाएं हैं। लेह-लद्दाख जा रहे श्रमिकों के प्रति हम संवेदनशील हैं। सरकार उनके हित के लिए कार्य करेगी। बिचौलिया मजदूरों का हक मार लेते थे। इन बिचौलियों के गैंग को जड़ से उखाड़ फेंकने का कार्य सरकार कर रही है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान पता चला कि झारखंड से इतने बड़े पैमाने में मजदूर दूसरे राज्यों में रोजगार की तलाश में जाते हैं। झारखंड, बिहार, बंगाल एवं यूपी की सरकार को यह मालूम नहीं था कि कितनी बड़ी संख्या में उनके लोग रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में पलायन करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा यह देश की खूबसूरती है कि अलग-अलग राज्यों के लोग दूसरी जगहों पर जाकर के देश के विकास में अपना योगदान देते हैं। कोरोना संक्रमण के दौरान लोगों का जो पलायन शुरू हुआ, मुझे लगता है कि देश की आजादी के बाद ऐसा पलायन कभी नहीं हुआ।

Leave a Reply