सीतामढ़ी के भिठ्ठामोड़ बॉर्डर पर नेपाल ने फिर ठोका दावा, नो मैंस लैंड में सड़क निर्माण कार्य रोका, सरहद पर बढ़ा तनाव

पटना, एमएम नेपाल पिछले कुछ महीनों से भारत के साथ वैर मोल लेता जा रहा है। दिन प्रतिदिन उसकी हिमाकत बढ़ती ही जा रही है। नेपाल में चल रहे सियासी उठापटक से ध्यान हटाने के लिए नेपाल सीमा पर आए दिन कुछ ना कुछ अवरोध उत्तपन करता रहता है। एक बार फिर भारत-नेपाल के भिठ्ठामोड़ बॉर्डर पर नेपाल ने अपना दावा ठोका है और भारतीय क्षेत्र में हो रहे सड़क निर्माण को मंगलवार को नेपाल सशस्त्र पुलिस बल ने रोक दिया। अब नेपाल पुलिस भारतीय क्षेत्र की 20 मीटर जमीन पर अपना दावा ठोक रही थी। सड़क का निर्माण भिठ्ठामोड़ चौक से नो मेंस लैंड तक हो रहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक सड़क निर्माण रुकने के बाद सीमा पर तनाव बढ़ने लगा है और निर्माण एजेंसी के कर्मियों के साथ-साथ काम कर रहे मजदूर और स्थानीय व्यवसायी भी उग्र हो गए। स्थिति बिगड़ते देख दोनों तरफ के जवान बॉर्डर पर जमने लगे। एसएसबी जवानों ने स्थिति संभालते हुए लोगों को यह कहकर शांत किया कि वरीय अधिकारी बात कर मामले को निपटा लेंगे।

बॉर्डर पर तैनात एसएसबी के द्वितीय सेनानायक नवीन कुमार ने बताया कि नेपाल पुलिस ने सड़क निर्माण पर आपत्ति जतायी है, उसके बाद बातचीत के बाद भी अबतक कोई हल नहीं निकला है। पूरे घटनाक्रम की जानकारी वरीय अधिकारियों को दे दी गयी है। दोनों देश के अधिकारी बात कर जल्द ही इसका हल निकालेंगे।

दरअसल नेपाल भारतीय सीमा के बीस मीटर जमीन को अपना बताते हुए नेपाल पुलिस ने भिठ्ठामोड़ मुख्य चौक से नो मेंस लैंड तक चल रहे सड़क निर्माण कार्य को रोक दिया है। भिठ्ठा कैंप के एसएसबी जवानों और नेपाल पुलिस के बीच हुई बातचीत से भी कोई समाधान नहीं निकल सका। भिठ्ठा ओपी प्रभारी राजेश कुमार ने बताया कि पहल करने के बावजूद निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया।

इस पुरे घटनाक्रम पर सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार ने बताया कि एसएसबी के अधिकारियों ने बॉर्डर पर वार्ता की है। प्रोटोकॉल के अनुसार मामले का समाधान निकाला जा रहा है।

Leave a Reply