मुजफ्फरपुर में कारोबारी के घर डकैती, बेटी को भी साथ ले गए डकैत, गुस्साए लोगों ने किया सड़क जाम, पुलिस पर भी किया पथराव

मुजफ्फरपुर, एमएम : बिहार में अपराध का बोलबाला बढ़ गया है। अपराधियों को पुलिस का कोई खौफ नहीं है। ताजा मामला  मुजफ्फरपुर जिले के सदर थाना क्षेत्र के दिघरा का है। जहां बदमाशों ने गुरुवार देर रात एक कारोबारी के घर डाका डाला। डाका डालने पहुंचे बदमाश कारोबारी के बेटी को भी अगवा करके ले गए।

मिली जानकारी के मुताबिक देर रात हथियारबंद डकैत किराना व्यवसायी के घर डाका डालने पहुंचे। उन्होंने हथियार के दम पर दरवाजा खुलवाया और घर में तोड़फोड़, लूटपाट और मारपीट की। डकैती में लाखों की संपत्ति लूटी गई। जाते समय डकैत किराना व्यवसायी की 15 वर्षीय बेटी को अगवा कर अपने साथ ले गए। घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस मौके पर पहुंचकर छानबीन में जुट गई।

पीड़ित परिवार के अनुसार, रात के करीब 12:30 बजे डकैत छत के रास्ते घर में घुसे। अपराधियों ने घर की महिलाओं के साथ मारपीट की। अपराधी तीन लाख के गहने, 50 हजार रुपए कैश और घर में रखे सारे कीमती सामान समेटकर ले गए। वारदात के समय शंभू घर के बाहरी हिस्से में बने रूम में सो रहे थे। घर में उनकी पत्नी, दो बेटी और एक बेटा सो रहे थे।

शंभू पांडेय की बड़ी बेटी ने कहा कि मैं सो रही थी। मेरे रूम में दो आदमी आए। वे लोग सारा-सामान इधर-उधर कर रहे थे तब मेरी नींद खुली। मैंने कहा कि क्या कर रहे हैं आप लोग? इसके बाद मैंने पापा और चाची को फोन करने के लिए मोबाइल उठाया। उन लोगों ने मेरा मोबाइल छीन लिया। दो आदमी मेरे रूम में थे और चार-पांच आदमी और थे। सभी चाकू, पिस्टल और बंदूक लिए हुए थे। सभी ने अपना चेहरा ढंक रखा था। अपराधियों ने मुझे डराया और बाहर बैठा दिया। इसके बाद वे लोग मेरी बहन के रूम में गए। अपराधियों ने मेरी बहन का मुंह और हाथ बांध दिया और उसे उठाकर ले गए।

सदर पुलिस ने मामले को संदेहास्पद और प्रेम प्रसंग से जुड़ा बताया। इसी पर ग्रामीण भड़क गए। गुस्साए ग्रामिणों ने पुलिस पर हमला किया और रोड़ेबाजी करके पुलिस को वहां से खदेड़ दिया। पुलिस पीछे हट गई और ग्रामिण सड़क पर प्रदर्शन करने लगे।

शुक्रवार सुबह से व्यवसायी और ग्रामीण एनएच 28 के दिघरा चौक को बांस बल्ला लगाकर जाम करके प्रदर्शन पर बैठ गए। प्रदर्शन के दौरान आगजनी भी हुई है। बताया जा रहा है कि आक्रोशित लोगों ने राहगीरों से भी दुर्व्यवहार किया। फिलहाल मौके पर वरीय पुलिस अधिकारी के बुलाने पर सभी अड़े है। समाचार लिखे जाने तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई थी। हालांकि पुलिस का कहना है कि इस मामले को लेकर अबतक पीड़ित परिवार ने लिखित आवेदन नहीं दिया है।

Leave a Reply