तेजस्वी ने नीतीश सरकार पर लगाया बड़ा आरोप, बोले 15 साल में हुए 55 बड़े घोटाले, लेकिन नहीं हुई कार्रवाई

पटना, एमएम : बिहार में विधानसभा चुनाव है। ऐसे में भला आरोप प्रत्यारोप का दौर कहाँ थमने वाला है। नेताओं का जुबानी जंग शुरू हो चूका है। खास कर सुशील मोदी लालू परिवार पर आए दिन निशाना साधते रहते हैं। वहीं अब तेजस्वी यादव भी चुनावी मूड में नजर आने लगे हैं। अब वो भी हरेक दिन किसी ना किसी मुद्दे पर नीतीश सरकार को घेरते नजर आ रहे हैं। रविवार को तेजस्वी यादव ने प्रदेश की नीतीश सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि बार-बार चारा घोटाले की बात करने वाली सरकार के 15 साल के कार्यकाल में कई बड़े-बड़े घोटाले हुए हैं, लेकिन किसी भी मामले में कार्रवाई नहीं हुई है। तेजस्वी ने आरोप लगाया कि नीतीश सरकार के 15 साल के कार्यकाल में 55 बड़े घोटाले हुए हैं।

तेजस्वी यादव ने मीडिया से बातचीत के दौरान प्रदेश की नीतीश और केन्द्र की मोदी सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि शहीद के परिजनों से मुलाकात करने उनके घर जा रहा हूं। हमारी पार्टी भारतीय सेना के साथ है लेकिन सवाल फिंगर पॉइंट तक चीन के पहुंचने का है, जिसपर सेना के अवकाश प्राप्त अधिकारी भी सवाल उठा रहे हैं

इसके बाद उन्होंने प्रदेश की नीतीश सरकार पर बरसते हुए कहा कि बिहार की एनडीए सरकार बार-बार चारा घोटाले की बात करती है, लेकिन चारा घोटाला तो मात्र 46 करोड़ का था। बिहार में उससे बड़े-बड़े कई घोटाले हुए हैं, जिसपर आजतक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। तेजस्वी ने कहा कि बिहार में तकरीबन 55 घोटाले हुए हैं, जिसपर राज्य सरकार द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि सृजन घोटाला 3300 करोड़ का है और इसमें शामिल लोगों को सरकार का संरक्षण प्राप्त है। इसकी निष्पक्ष जांच हो तो कई लोग घेरे में आ जाएंगे।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पूरा उत्तर बिहार बाढ़ के खतरे में है। जलजमाव के कारण सभी जिला मुख्यालय के लोग परेशान हैं। जल-जमाव से निजात और बाढ़ से सुरक्षा के लिए करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाए गए, लेकिन इसका कोई नतीजा कहीं नहीं दिख रहा। आलम यह है कि यहां चूहा बांध काट देता है और शराब भी चूहा ही पी जाता है। जांच के नाम पर छोटी मछलियों को पकड़ा जाता है और बड़ी मछलियों को बचाया जा रहा है।

Leave a Reply