86 साल बाद फिर चलेगी ट्रेन, 18 को मोदी करेंगे कोसी रेल सेतु का उद्घाटन

समस्तीपुर, एमएम : रेल भारत में यात्रा के दृष्टिकोण से सबसे अच्छी मानी जाती है। यहां तक कि इसको लाइफलाइन तक कहा जाता है। रेल सेवा सुगम और सस्ती होती है लिहाजा हरेक वर्ग को इसका फायदा मिलता है। भारत में रेल नेटवर्क का निरंतर विस्तार हो रहा है। इसी कड़ी में करीब 86 साल से दो भागों में बटी मिथिला को एक बार फिर रेल के माध्यम से जोड़ने का काम किया जा रहा है। कोसी महासेतु सहित सरायगढ़ से आसनपुर कुपहा रेलखंड का उद्घाटन 18 सितंबर को किया जायेगा। समस्तीपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम सरस्वती चंद्र ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोसी महासेतु का उद्घाटन करेंगे। साथ ही सरायगढ़ से आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन भी रवाना की जायेगी।

बताते चलें कि कोसी महासेतु रेल पुल पर ट्रेनों के परिचालन को लेकर मुख्य सीआरएस शैलेश कुमार पाठक ने पहले ही मंजूरी दे दी है। कोसी महासेतु पुल पर 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन दौड़ सकेगी। वहीं पुल के बाहर गति सीमा 100 किमी प्रति घंटे रखी गयी है। शनिवार को इस रेलखंड पर डेमू ट्रेन का परिचालन कर ट्रायल भी समस्तीपुर रेल मंडल की ओर से लिया गया था।

1.9 किमी लंबे नये कोसी महासेतु सहित 22 किमी लंबे निर्मली-सरायगढ़ रेलखंड का निर्माण 2003-04 में 323.41 करोड़ की लागत से स्वीकृत किया गया था। इसके उपरांत 6.6.2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने शिलान्यास किया था। परियोजना की अनुमानित लागत 516.02 करोड़ है। 23 जून, 2020 को इस नवनिर्मित रेल पुल पर पहली बार ट्रेन का सफलतापूर्वक परिचालन किया गया। वर्तमान पुल का निर्माण निर्मली एवं सरायगढ़ के बीच किया गया है।

निर्मली जहां दरभंगा-सकरी-झंझारपुर मीटर गेज लाइन पर अवस्थित एक टर्मिनल स्टेशन था, वहीं सरायगढ़, सहरसा और फारबिसगंज मीटर गेज रेलखंड पर अवस्थित था। 1887 में बंगाल नॉर्थ-वेस्ट रेलवे ने निर्मली और सरायगढ़ (भपटियाही) के बीच एक मीटर गेज रेल लाइन का निर्माण किया था। उस समय कोसी नदी का बहाव इन दोनों स्टेशनों के मध्य नहीं था। उस समय कोसी की एक सहायक नदी तिलयुगा इन स्टेशनों के मध्य बहती थी। उसके ऊपर लगभग 250 फुट लंबा एक पुल था। निर्मली से सरायगढ़ तक का सफर वर्तमान में दरभंगा-समस्तीपुर-खगड़िया-मानसी-सहरसा होते हुए 298 किलोमीटर का है। इस पुल के निर्माण से यह 298 किमी की दूरी मात्र 22 किमी में सिमट जायेगी।

Leave a Reply