भारत ने पहाड़ों पर लड़ने में महारत हासिल विशेष युद्ध बलों को LAC पर किया तैनात, चीन के किसी भी हिमाकत का मुंहतोड़ जबाब देने दिया गया निर्देश

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम :  भारत चीन सीमा पर हिंसक झड़प के बाद सीमा पर तनाव बरकरार है। हालांकि शांति व्यवस्था बहल करने के लिए आज फिर दोनों देशों के सैन्य अधिकारीयों का बैठक है। फिर भी भारत अपनी सीमा के साथ किसी भी तरह के उकसावे को अब बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है। इसी को देखते हुए भारत ने 3,488 किलोमीटर वास्तविक नियंत्रण रेखापर  अपने विशेष युद्ध बलों को तैनात किया है, जो कि चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के पश्चिमी, मध्य या पूर्वी सेक्टरों में किसी भी प्रकार के हमले से जूझ सकते हैं। शीर्ष सरकारी सूत्रों ने इसकी पुष्टि की है कि भारतीय सेना को पीएलए द्वारा सीमा पार से किसी भी हरकत का आक्रामकता से एलएसी पर जवाब देने का निर्देश दिया है।

उत्तरी मोर्चे पर लड़ने के लिए पिछले कई दशकों में प्रशिक्षित विशेष बलों को LAC पर भेजा गया है। भारतीय पर्वतीय सैनिकों को गुरिल्ला युद्ध में प्रशिक्षित किया जाता है और ये पहाड़ों पर कारगिल युद्ध भी लड़ चुके हैं। एक पूर्व सेना प्रमुख ने बताया है कि पहाड़ पर लड़ने की कला सबसे कठिन है। उत्तराखंड, लद्दाख, गोरखा, अरुणाचल और सिक्किम में तैनात सैनिक दुर्लभ ऊंचाइयों में रहते हैं और इसलिए उनकी लड़ने की क्षमता बहुत अधिक है।

इससे सेना के लिए फायदे की दूसरी बात यह है कि तिब्बती प्लेट्यू चीन की तरफ समतल है जबकि भारतीय पक्ष काराकोरम में K2 चोटी से शुरू होती है। यह उत्तराखंड में नंदादेवी तक, सिक्किम में कंचनजंग और अरुणाचल प्रदेश सीमा के नामचे बरवा तक पहाड़ हैं। साउथ ब्लॉक वाले चीन के एक विशेषज्ञ ने कहा, “पहाड़ों में न केवल क्षेत्र पर कब्जा करना मुश्किल है, बल्कि इसे पकड़ना ज्यादा मुश्किल है।”

गौरतलब है कि  बीते 15 जून की रात गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सेना की झड़प में चीन के 40 से ज्यादा जवान या तो घायल हुए या मारे गए। वहीं भारत केे 20 जवान शहीद हुए।

One Reply to “भारत ने पहाड़ों पर लड़ने में महारत हासिल विशेष युद्ध बलों को LAC पर किया तैनात, चीन के किसी भी हिमाकत का मुंहतोड़ जबाब देने दिया गया निर्देश”

Leave a Reply