‘मन की बात’ में प्रधानमंत्री मोदी ने किया मिथिला पेंटिंग से बने मास्क का जिक्र, कहा-कला संस्कृति के प्रचार के साथ बढ़े रोजगार के अवसर

दिल्ली, एमएम : प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार की सुबह देशवासियों से मन की बात  की। प्रधानमंत्री पहले से तय कार्यक्रम के मुताबिक दोपहर 11 बजे रेडियो के माध्यम से ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किए। इस दौरान उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात देश के साथ साझा की। प्रधानमंत्री ने अपने मन की बात में कोरोना संक्रमण से जुड़े फेस मास्क और बिहार के प्रसिद्ध लोक पेंटिंग मिथिला पेंटिंग का जिक्र किया।

पीएम ने कार्यक्रम में मधुबनी पेंटिंग युक्त मास्क की तारीफ करते हुए मास्क बनाने वाली महिलाओं के प्रयासों की भी खूब सराहना की। मन की बात में मिथिला पेंटिंग के जिक्र से मिथिला के लोगों ने खासी खुशी जताई है। प्रधानमंत्री मोदी ने मधुबनी पेंटिंग को लेकर पीएमओ ने ट्वीट भी किया है। जिन पर मधुबनी के डीएम ने उनको रिट्वीट करते हुए पीएम को इसके लिए धन्यवाद किया।

मिथिला का मिथिला पेंटिंग से खास नाता है। दरअसल मिथिला क्षेत्र में इस पेंटिंग की शैली की उत्पत्ति की वजह से इसे मिथिला पेंटिंग के नाम से भी जाना जाता है इस पेंटिगशैली का इस्तेमाल आज भी महिलाएं अपने घरों और दरवाजों को सजाने के लिए किया करती हैं। इस कला की उत्पत्ति रामायण काल में हुई थी ऐसा कहा जता है। मिथिला पेंटिंग प्रकृति और पौराणिक कथाओं की तस्वीरें उकेड़ी जातीं हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सकारात्मक दृष्टिकोण से हमेशा आपदा को अवसर में, विपत्ति को विकास में बदलने में मदद मिलती है। हम कोरोना के समय भी देख रहे हैं कि कैसे देश के युवाओं-महिलाओं ने प्रतिभा और कौशल के दम पर कुछ नये प्रयोग शुरू किये हैं। बिहार में कई वूमन सेल्फ हेल्प गुप्स ने मिथिला पेंटिंग वाले मास्क बनाना शुरू किया है और देखते ही देखते ये खूब पॉपुलर हो गए हैं। ये मास्क एक तरह से अपनी परंपरा का प्रचार तो करते ही हैं, लोगों को स्वास्थ्य के साथ रोज़गार भी देते हैं।

Leave a Reply