बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में बीमार हैं तो बोट एंबुलेंस को करें कॉल, मिलेगी मदद, खगड़िया जिला प्रशासन ने शुरू की अनूठी पहल

पटना, एमएम: बिहार में इस समय दो-दो आपदाएं एक साथ आई हुई है। एक तरफ राज्य के 16 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। तो दूसरी तरफ कोरोना जैसे वैश्विक महामारी ने लोगों को डर-डर के जीने पर मजबूर कर दिया है। बिहार में जिस कदर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ रही है निश्चित रूप से आने वाले समय में एक गंभीर समस्या उत्त्पन हो सकता है। इसी बीच खगड़िया जिला प्रशासन ने एक अनोखी पहल की है जो इन दिनों तमाम मीडिया की सुर्खी बनि हुई है। जाहिर है बिहार का खगड़िया जिला भी बाढ़ से प्रभावित है। लिहाजा इस स्थिति में जिले के एक लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। अगर ऐसे लोगों को अचानक अस्‍पताल ले जाने की नौबत आ जाए तो क्या होगा। इसी को देखते हुए खगड़िया प्रशासन ने बोट एम्बुलेंस की व्यवस्था की है। वे तत्‍काल बोट एंबुलेंस की मदद ले सकते हैं। किसी भी बाढ़  पीड़ित की तबीयत बिगड़ती है तो उसे बोट एंबुलेंस  की सुविधा  दी जाएगी। फिलहाल इस सुविधा की व्‍यवस्‍था जिला के बाढ़ प्रभावित अलौली  प्रखंड में  की गई  है। जल्‍द ही इसका और विस्‍तार किया जाएगा।

जिलाधिकारी आलोक घोष ने बताया कि इस बोट एंबुलेंस पर ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ डॉक्टर और ट्रेंड  एएनएम की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसपर प्रारंभिक इलाज की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध है।

बाढ़ में फंसे किसी व्‍यक्ति की तबीयत खराब होने पर इस एंबुलेंस को बुलाने के लिए टोल फ्री नंबर 18003456620 पर डायल किया जाना है। इस नंबर पर सूचना देने पर बोट एंबुलेंस तत्‍काल पहुंच जाएगी।

डीएम ने कहा कि हालांकि, बाढ़ प्रभावित इलाकों में मेडिकल टीम काम कर रही है, लेकिन बोट एंबुलेंस के आ जाने से तत्काल चिकित्सा मुहैया कराने में आसानी हो जाएगी। जल्दी ही जिले के सभी बाढ़  प्रभावित इलाकों में  इस सुविधा का विस्‍तार किया जाएगा।

कुछ इस तरह की पहल वैशाली जिला प्रशासन ने भी की है। वहां भी कुछ नावों को बोट एम्बुलेंस में तब्दील की गई है ताकि आवश्यकता पड़ने पर लोगों को सुविधा दी जा सके। इस पहल पर राज्य के आपदा मंत्री और मुख्यमंत्री ने भी इस तरह के प्रयास की सराहना की है।

Leave a Reply