बिहार में ठनका से मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 103, तीन दर्जन से अधिक लोग घायल

पटना, एमएम  :  बिहार में गुरुवार को बारिश के दौरान ठनका गिरने से  मरने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है । प्राप्त जानकारी  के मुताबिक ये आंकड़ा बढ़के 103 हो गई है। जबकि तीन दर्जन से अधिक घायल भी हुए हैं। मृतकों में ज्यादातर खेती-किसानी से जुड़े लोग शामिल हैं। हालांकि, आपदा प्रबंधन विभाग ने अभी तक 92 लोगों की ही मौत की पुष्टि की है। इस घटना में सबसे अधिक गोपालगंज में 13 लोगों की मौत हुई है। राज्यपाल फागू चौहान ने ठनके से लोगों की मौत पर शोक जताया है। वहीं मुख्यमंत्री ने सभी मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया।

मिल रही जानकारी के मुताबिक, गोपालगंज में वज्रपात से चार महिलाओं और एक इंजीनियरिंग के छात्र समेत 13 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 14 किसान झुलसकर गंभीर रूप से जख्मी हो गये। मृतकों में बरौली के चार, थावे व उचकागांव के दो-दो, हथुआ, कटेया, विजयीपुर, बैकुंठपुर और मांझा के एक-एक व्यक्ति शामिल हैं। सीवान जिले में भी ठनका गिरने से सात लोगों की मौत हो गयी और चार जख्मी हो गये। मृतकों में हुसैनगंज के दो, हसनुपरा, मैरवा, बड़हरिया, गुठनी व लकड़ीनबीगंज के एक-एक व्यक्ति शामिल हैं।

वहीं सारण जिले के बनियापुर थाने के तख्त भिठ्ठी गांव में एक किशोरी की मौत हो गयी और एक बच्चा घायल हो गया। जहानाबाद के मखदुमपुर प्रखंड के बिजलीपुर गांव में एक युवक और घोसी प्रखंड के साहोबिगहा पुराना टोला गांव में ठनका गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गयी। बक्सर के सिकरौल थाना के बसांव कला गांव में एक व्यक्ति की मौत हो गयी। उत्तर बिहार में ठनका गिरने से 25 लोगों की जान चली गयी, जबकि एक दर्जन झुलस गये। मधुबनी में आठ लोगों की मौत हो गयी। इनमें फुलपरास के सुगापट्टी के तीन लोग एक ही परिवार के हैं। वहीं, घोघरडीहा के बेलहा गांव में एक दंपती की भी जान चली गयी।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक अभी तक गोपालगंज 13, पूर्णिया 9, नवादा, मधुबनी, भागलपुर, और औरंगाबाद में 8-8, सीवान 7, पूर्वी चंपारण, दरभंगा और बाँका में 5-5, खगड़िया और जमुई में 3-3, प. चंपारण, समस्तीपुर, किशनगंज, जहानाबाद, सीतामढ़ी, सुपौल, कैमूर और बक्सर में 2-2, शिवहर, सारण, मधेपुरा, सहरसा और अररिया में 1-1 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है।

बतादें कि बिहार में वज्रपात से हर साल औसतन 248 लोगों की मौत हो जाती है। पिछले 10 साल में करीब 2480 लोगों की मौत हो चुकी है। 2019 में भी 221 लोगों की जान ठनका से चलि गई थी। इस साल अब तक 154 लोगों की मौत इससे हो चुकी है।

Leave a Reply