सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, मधुबनी समेत बिहार के 18 जिलों में भारी बारिश और ठनका गिरने का आशंका, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

पटना, एमएम : बिहार में लगातार हो रहे बारिश और ठनका गिरने से लोगों का जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मौसम विभाग की माने तो अगले छार दिन खासकर उत्तर बिहार के लिए खतरा से भरा है।  मौसम विभाग, पटना ने गुरुवार से अगले 72 घंटे नेपाल से सटे उत्तरी बिहार के जिलों में भारी से अत्यंत भारी बारिश तथा वज्रपात का अलर्ट जारी किया है। रविवार तक भारी बारिश के अनुकूल गतिविधि पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सिवान, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, सारण, मधुबनी, सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनगंज एवं कटिहार में बन रही है। इन जिलों में भारी बारिश के साथ-साथ व्रजपात भी होगा।

अलर्ट के मुताबिक इन जिलों में जान माल को नुकसान की आशंका है। साथ ही जलजमाव, यातायात बाधित, बिजली सेवा बाधित व नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी की आशंका है। बिजली चमकने की आवाज सुनाई देने पर किसान व मजदूर खुले में कदापि नहीं रहें। पेड़ और बिजली के खंभों के नीचे नहीं रुके। पक्के मकान में शरण लेना ज्यादा बेहतर होगा।

नेपाल में लगातार हो रही बारिश के कारण बिहार से सटे कई जिलों को खासी परेशानियों का सामान करना पड़ सकता है। गुरुवार से तेज बारिश की आशंका के मद्देनजर जल संसाधन विभाग ने सभी संबंधित इंजीनियरों को सतर्क रहने को कहा है। बता दें कि गुरुवार को नेपाल के तराई क्षेत्रों में बारिश शुरू हो चुकी है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के बाद नेपाल में हो रही बारिश से स्थानीय लोगों में दहशत है। हालांकि फिलहाल गंडक नदी का जलस्तर स्थिर है लेकिन नदी में 1लाख 13 हज़ार क्यूसेक पानी का बहाव हो रहा है इसको लेकर जल संसाधन विभाग को भी अलर्ट पर रखा गया है।

बिहार में बारिश और आकाशीय बिजली का कहर लगातार जारी है। बुधवार को भी वज्रपात की चपेट में आने से रा्ज्य में 12 लोगों की मौत हो गई है। बता दें कि बिहार में इस साल में अबतक वज्रपात से 200 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है।

Leave a Reply