राजद पर मांझी का आरोप, बोले – बेटों के लिए लालू ने चढ़ा दी रघुवंश बाबु की बलि

पटना, एमएम : बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। लेकिन रविवार का दिन राजनीतिक रूप से बिहार के लिए क्षति का दिन था।  बिहार के कद्दावर समाजवादी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह का रविवार को दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान में निधन हो गया। मौत से तीन दिन पहले ही उन्‍होंने राष्‍ट्रीय जनता दल से इस्‍तीफा दे दिया था। अब उनकी मौत और राजद से मोह भंग को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। इसकी शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने कर दी है। उन्‍होंने रघुवंश प्रसाद सिंह की मौत के लिए सीधे लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार को जिम्‍मेदार बताया है। कहा है कि बटों को स्‍थापित करने के लिए लालू ने रघुवंश की बलि ले ली।

जीतनराम मांझी ने रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन पर शोक प्रकट करे हुए यह भी कहा कि रघुवंश प्रसाद सिंह के इस हालत के लिए लालू परिवार जिम्‍मेदार है। लालू प्रसाद यादव अपने बेटों तेजस्वी यादव तथा तेज प्रताप यादव को स्थापित करने के लिए राजद के वरिष्ठ नेताओं की बलि चढ़ा रहे हैं। लालू के बेटे तेज प्रताप यादव ने 32 सालों से आरजेडी के साथ रहे ऐसे तपस्वी और समाजसेवी के लिए उनके अंतिम समय में कहा कि समंदर से एक लोटा पानी बाहर चला जाए ते क्या होगा? बकौल मांझी, इस बात से रघंवुश प्रसाद सिंह को काफी चोट पहुंची होगी। इससे वे उबर नहीं सके।

हालांकि रघुवंश प्रसाद के निधन पर सबसे ज्यादा नुकसान राजद को ही हुआ है। इतना ही नहीं उनके निधन से लालू यादव बहुत दुखी हैं और कल से किसी से ठीक ढंग से बात तक नहीं कर रहे हैं। बतादें कि रघुवंश प्रसाद ही इकलौते ऐसे नेता थे जिनसे लालू हरेक अच्छे बुरे संवाद कायम करते  थे। राजनीतिक ही नहीं पारिवारिक मामलों में भी उनसे रायशुमारी करते नहीं हिचकते थे।

Leave a Reply