बिहार में बाढ़ LIVE अपडेट : समस्तीपुर के सैकड़ों घरों में घुसा बलान का पानी, वाल्मीकिनगर नगर में डूबा एसएसबी कैंप तो गोपालगंज में बह गई पुलिया

पटना, एमएम : बिहार में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदल गया है। पिछले दो तीन दिन से रुक रुक कर बारिश हो रही थी। मगर मंगलवार से शुरू हुई बारिश बुधवार को भी जा रही है। लिहाजा तमाम छोटी बड़ी नदियों में बाढ़ का पानी फिर से बढ़ने लगा है। मौसम विभाग की माने तो अभी एक दो दिन यह जारी रह सकता है। उधर गंडक बैराज में पानी छोड़ने से भी नदियों में उफान आ गया है।

उधर, भारत-नेपाल के तराई इलाके में झमाझम बारिश से एक बार फिर पहाड़ी नदियों में  बाढ़ आ गई है। पहाड़ी नदियों के तटों पर बसे गांवों के लोग भयभीत हैं। गंडक नदी के जल स्तर में भी आंशिक वृद्धि हुई है। बेतिया के सिकटा मैनाटांड़ एवं नरकटियागंज में पहाड़ी नदियां उफान पर हैं। पानी वाल्‍महकि टाइगर रिजर्व के मंगुराहा वन क्षेत्र में घुस गया है। उधर वाल्मीकि नगर में ही एसएसबी 21 वीं बटालियन के झंडू टोला स्थित बीओपी में बाढ़ का पानी घुस गया है। जिससे जवानों को मुश्किलों सामना करना पड़ा रहा है। पिछले माह बाढ़ की मार झेलने के बाद इस इलाके से बाढ़ का पानी उतर गया था।

इधर समस्तीपुर के दलसिंहसराय और आसपास के क्षेत्रों में बारिश व बाढ़ की वजह से बलान नदी का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। इससे नदी किनारे के दर्जनों गांवों में नदी का पानी घुसने लगा है। पगड़ा, केवटा, नवादा पंचायत व शहरी क्षेत्र में नदी किनारे बसे सैकड़ों लोगों के घरों में नदी का पानी घुस गया है।

बिहार सरकार के जलसंसाधन विभाग की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार राज्य की कई नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। अवधारा समूह की नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। महानंदा, पुनपुन और भुतही बलान जैसी नदियों का भी जलस्तर बढ़ने लगा है, हालांकि अभी ये नदियों खतरे के निशान से नीचे ही बह रही थी।

इधर दरभंगा जिले के बहेड़ी प्रखंड क्षेत्र में कमला व जीवछ नदी के उफान से लोगों की परेशानी बढ़ गयी है। अंचल प्रशासन के द्वारा तीन पंचायत अटहर उत्तरी, दक्षिणी व हावीडीह उत्तरी को पूर्णतः बाढ़ग्रस्त घोषित किया गया है। वहीं सुसारी तुर्की, हथौड़ी उत्तरी, बलिगांव, हथौड़ी दक्षिणी को आंशिक रूप से बाढ़ प्रभावित घोषित किया गया है। प्रशासन की इस घोषणा से लोग क्षुब्ध हैं।

दूसरी तरफ वैशाली जिले के पातेपुर प्रखंड क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक पंचायतों में बाढ़ की भयावह स्थिति को देखते हुए बाढ़ से निबटने के लिए अंचल और प्रखंड प्रशासन ने पूरी कमर कस ली है। बीडीओ और नवपदस्थापित सीओ के संयुक्त नेतृत्व में युद्धस्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चलाया जा रहा है। बाढ़ प्रभावित कुल 11 पंचायतों में बाढ़ पीड़ितों के लिए सरकारी स्तर पर कुल 47 नाव उपलब्ध कराये गए हैं।

इधर गोपालगंज के देवकली कोठी जाने वाला मार्ग का पुलिया बाढ़ के पानी में बह गया। देकुली 101हाईवे से देकुली कोठी को जोड़ने वाले सड़क का पुलिया बहने से गांव के लोगों की मुश्किले बढ़ी हुई है। पुलिया पहले से ही जर्जर स्थिति में थी।  बतादें कि 24 जुलाई की देर रात अचानक बाढ़ की धारा में पुलिया का कुछ हिसा बह गया था। ग्रामीणों के द्वारा स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना भी दी गई थी। अब पूरी पुलिया ही नदी की धारा में बह के चलि गई। लिहाजा आसपास के करीब एक दर्जन गांव में बाढ़ का पानी का खतरा बढ़ गया है और लोगों को आवागमन के लिए नाव ही एक मात्र सहारा है।

Leave a Reply