अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करे पड़ोसी देश, तभी टिकाऊ विश्व व्यवस्था बनाने में मिलेगी मदद, : विदेश मंत्री एस. जयशंकर

दिल्ली, न्यूज़ डेस्क, एमएम : चीनी सेना के साथ भारतीय सेना के लड़ाई के बाद चीन के प्रति भारत में गुस्सा है। चीनी सैनिक संग हुए घटना में हमरे 20 जवान शहीद हो गए थे। इसी बीच विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को रूस-भारत-चीन (आरआईसी) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लिया। उन्होंने इस दौरान अन्य देशों से कहा कि वे अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करें और साझेदारों के वैध हितों को पहचाने। जाहिर है इशारा चीन के तरफ ही था।

चीन के विदेश मंत्री वांग यी और रूस के अपने समकक्षीय सर्गेई लावरोव के साथ बातचीत के दौरान एस. जयशंकर ने दुनिया के शक्तिशाली देशों से कहा कि वे हर मायने में उदाहरण पेश करें। भारत-चीन सीमा विवाद का बिना जिक्र किए विदेश मंत्री ने अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि देशों को अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करना चाहिए और साझेदारों के वैध हितों की पहचान करे।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक जयशंकर ने जोर देते हुए कहा कि बहुपक्षवाद का समर्थन करना और सामान्य अच्छी चीजों को बढ़ावा देना ही वैश्विक व्यवस्था को टिकाऊ बनाने का एक मात्र रास्ता है। उन्होंने कहा, विशेष बैठक अंतरराष्ट्रीय संबंधों में विश्वास के सिद्धांतों को दर्शाता है। लेकिन आज चुनौती अवधारणाओं और मानदंडों की नहीं बल्कि उनके व्यवहार की है।

पूर्वी लद्दाख के वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव के बीच यह बैठक हुई है। हालांकि, पहले से ही ऐसी रिपोर्ट है कि भारत-चीन सीमा विवाद को इस वार्ता के दौरान नहीं रखा जाएगा।

इस बैठक में कोरोना वायरस को लेकर पैदा हुआ वैश्विक हालात, क्षेत्रीय मुद्दों को लेकर आपसी चिंता, वैश्विक चुनौतियां जैसे आतंकवाद और त्रिपक्षीय संबंधों पर चर्चा की उम्मीद थी।

Leave a Reply