नहर में डूबने से चार बच्चियों की मौत, सहेलियों के साथ गई थी नहाने

बांका,एमएम : एक दर्दनाक खबर बिहार के बांका जिले से मिल रही है। जिले के शंभुगंज थाना क्षेत्र के कामतपुर पंचायत अंतर्गत घोषपुर गांव के समीप करमा-धरमा पर्व को लेकर मंगिया बांध के नहर में स्नान करने गयी चार बच्चियों की डूबने से मौत हो गयी है। घटना मंगलवार की सुबह आठ बजे की बताई जा रही है। अपने भाई की सलामती के लिए त्योहार कर रही इन चार बच्चियों की मौत से इलाके में मातम पसरा हुआ है। परिजनों में हाहाकार मचा हुआ है। रो रो के बुरा हाल है। स्थानीय लोगों के मुताबिक  ग्रामीणों की सजगता से एक दर्जन बच्चियों की जान बचा ली गयी।

मृतकों में प्रमोद यादव की पुत्री नेहा कुमारी, दिनेश यादव की पुत्री ताप्ति कुमारी, गोरेलाल पोद्दार की पुत्री नीलू कुमारी  व अरुण पोद्दार की पुत्री सविता कुमारी शामिल है। चारों बच्चियों की उम्र 10-12 थी। सभी बच्चियां मध्य विद्यालय घोषपुर की छात्रा थीं। इसमें नेहा कुमारी व ताप्ति कुमारी सातवीं कक्षा की छात्रा थ।. नीलू कुमारी छठी व सविता कुमारी पांचवीं वर्ग में पढ़ती थी।

घटना के बाद एसडीपीओ डीसी श्रीवास्तव, सीओ अशोक कुमार सिंह, थानाध्यक्ष उमेश प्रसाद गांव पहुंचे। सभी मृत बच्चियों के शव का पोस्टमार्टम बांका सदर अस्पताल में कराया गया। सीओ ने पीड़ित परिजनों को आपदा प्रबंधन के तहत मिलने वाली आर्थिक सहायता देने की बात कही गई है।

दरअसल करमा-धरमा पर्व के नहाय-खाय को लेकर गांव की करीब पांच दर्जन बच्चियां समूह बनाकर गांव से दक्षिण करीब दो सौ मीटर दूर स्नान करने मंगिया बांध के समीप पहुंची। वहां नहाने के दौरान सबसे पहले ताप्ति कुमारी व सविता कुमारी गहरे पानी में चली गयीं। सहेली को डूबते देख नेहा व नीलू भी बचाने कूद गयी। यह देख अन्य सहेलियों ने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया। आवाज सुन बांध के समीप बहियार में काम कर रहे किसान वहां पहुंचे और डूब रही अन्नू कुमारी, मौसम कुमारी, साक्षी कुमारी, सोनाली कुमारी सहित एक दर्जन बच्चियों को बाहर निकाला। घटना के बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया। त्योहार की खुशी पल भर में ही गम में बदल गई।

Leave a Reply