पटना में दिव्यांग शिक्षिका ने नदी में कूदकर दी जान, आर्थिक तंगी से थी परेशान

पटना, एमएम :  बिहार की राजधानी पटना से दिल को झकझोड़ देने वाली खबर सामने आई है। जब से कोरोना काल शुरू हुआ ना जाने लोगों में डर बैठ गया है। बहुत से लोगों का रोजगार भी छुट चुका है। लोग आर्थिक मार झेलने को मजबूर हैं। सरकार एक तरफ तो बड़े-बड़े दावे कर रही है। लेकिन जमीन पर हकीकत कुछ और बयाँ कर रही है। ताजा मामला पटना जिले के फतुहा क्षेत्र का है। फतुहा थाना क्षेत्र के गोविंदपुर वार्ड नम्बर 7 की एक दिव्यांग महिला ने पुनपुन नदी में छलांग लगा दी। परिजनों की सूचना पर फतुहा और नदी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और एसडीआरएफ की मदद से शव की खोजबीन में जुट गई। पुलिस ने घटनास्थल से दिव्यांग महिला की वैशाखी भी बरामद कर लिया है।

बताया जा रहा है कि स्व. श्रवण कुमार की 35 वर्षीया पत्नी दिव्यांग कांति देवी एक निजी विद्यालय में शिक्षिका थी। करीब 2 वर्ष पूर्व पति की बीमारी से हुई मौत के बाद वह अपनी 14 वर्ष की बेटी कृति एवं 8 वर्ष के पुत्र साहिल की परवरिश के लिए ट्यूशन और एक निजी विद्यालय में पढ़ाती थी। कोरोना संक्रमण को लेकर पिछले तीन माह से विद्यालय और ट्यूशन छूट जाने के कारण भीषण आर्थिक तंगी की समस्या उत्पन्न हो गई थी, जिससे कांति देवी अवसाद में रह रही थी। उसकी बेटी कृति के अनुसार शनिवार की देर रात उसने घर के एक नोटबुक पर संदेश छोड़ा था जिसमें लिखा था कि हमरा माफ करिहा बेटी हम जा रही हूं। इसके बाद वह वैशाखी लेकर घर से निकल गई। जब बेटी की नींद खुली तो मां को न पाकर परेशान हो गई।

इधर नदी में तलाशी अभियान जारी है। पुलिस अभी इस मामले में कुछ बोलने को राजी नहीं है। खबर लिखे जाने तक उक्त महिला का शव बरामद नहीं हुआ था।

One Reply to “पटना में दिव्यांग शिक्षिका ने नदी में कूदकर दी जान, आर्थिक तंगी से थी परेशान”

  1. Bahut dukhad isthit. Bhagban mrit atma ko shanti pradan kare aur sath hi bache sab par kripa banaye rakhe

Leave a Reply