सुशील मोदी ने राजद को लिया आड़े हाथ, बोले- सवर्ण आरक्षण के विरोधी उनके हितैषी कब बन गए!

पटना, एमएम : बिहार में चुनाव का समय नजदीक होते ही राजनीतिक बयानबाजी और आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है। इसी कड़ी में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने तेजस्वी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो अनुकंपा और दंड में अंतर नहीं समझते, वे सरकार क्या चलाएंगे? दलित की हत्या पर पीड़ित परिवार को नौकरी देने का विरोध करने वाला राजद क्या घोषणा कर सकता है कि उन्हें मौका मिला तो बिहार में हर तरह की अनुग्रह राशि और अनुकंपा नौकरी बंद कर दी जाएगी? जो सवर्ण आरक्षण का विरोध करते हैं, वे उनके हितैषी बनने की दुहाई दे रहे हैं।

दलित और सामान्य वर्ग के लोग मिलकर राजद को फिर सबक सिखाएंगे। उन्होंने ट्वीट किया है – किसी हादसे या वारदात में मौत होने पर पीड़ित परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग अक्सर की जाती है, जब सरकार ने दलित समाज के व्यक्ति की हत्या होने पर नौकरी देने की घोषणा कर दी, तब इसका क्यों विरोध किया जाने लगा? कुतर्क की पराकाष्ठा करने वाले बताएं कि कोई अनुग्रह राशि या राहत किसी अप्रिय घटना को बढ़ावा देने के लिए होती है?

इधर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने भी कहा कि तेजस्वी यादव विकास को भी वे सियासी चश्मे से देखते हैं। उनकी लोगों को मुद्दों से भटकाने की हमेशा कोशिश रहती है। वे हमेशा किसी ना किसी मुद्दे पर राज्य की जनता को बरगला कर अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने में जुटे रहते हैं। इसलिए उन्हें कुछ नजर नहीं आ रहा है। अपनी खामियों को छिपाने के लिए सरकार पर झूठा आरोप मढ़ते हैं।

Leave a Reply