दिल्ली में कोरोना का कोहराम, नहीं थम रहा एलजी और दिल्ली सरकार के बीच तकरार, सिसोदिया ने चिठ्ठी लिख अमित शाह से की हस्तक्षेप की मांग

दिल्ली, एमएम : दिल्ली में कोरोना अपने चरम पर है। पिछले 24 घंटे में 3947 नए मरीज पाए गए और 68 नए लोगों को इस बीमारी से मौत भी हो गई दिल्ली मई कोरोना रोगियों की संख्या बढ़कर 66602 हो गई है।

दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच एक तरफ लोग इस महामारी से बचने का हर तरकीब ढूढ रहें हैं। वहीं दिली सरकार हर मुद्दे पर न्य यूँ कहें अमूमन हर मुद्दे पर आमने-सामने रहने वाली दिल्ली और केंद्र सरकार कोरोना के इलाज के प्रोटोकॉल को लेकर भी सहमति पर पहुंचती नजर नहीं आ रही हैं। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है दिल्ली में कोरोना के इलाज के दो मॉडल हैं, एक अमित शाह वाला और दूसरा केजरीवाल सरकार का। उन्होंने कहा कि अमित शाह वाले मॉडल में कोरोना मरीज को जांच के लिए क्वारंटाइन सेंटर जाना होगा, जबकि हमारे मॉडल में दिल्ली सरकार की मेडिकल टीम घर जाकर कोरोना मरीज की जांच करेगी। सिसोदिया ने आगे कहा कि हमें ऐसा मॉडल चाहिए, जिसमें लोगों को कम परेशानी हो।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड के खिलाफ संघर्ष में अमित शाह मॉडल बनाम केजरीवाल मॉडल की बात नहीं है, हमें लोगों को कम परेशानी वाली व्यवस्था लागू करनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘देश के गृह मंत्री की जिम्मेदारी है कि वह एलजी साहब से कहकर इस व्यवस्था को बंद करवाएं और पुरानी व्यवस्था लागू करें।  हमको वह व्यवस्था लागू करनी चाहिए, जिसमें लोगों को कम-से-कम समस्या हो। पिछले चार-पांच दिनों में लोग दुखी हो रहे हैं क्योंकि सबको क्वारंटाइन सेंटर में जांच के लिए भेजा जा रहा है।’

सिसोदिया ने बुधवार को कहा, ‘दिल्ली में जो होम आइसोलेशन के नियम बदले गए हैं, उससे लोगों में डर का माहौल है और इससे व्यवस्था पर भी अतिरिक्त भार पड़ रहा है। हमें आपसी मतभेद भुलाकर मिलकर इस बीमारी से निजात पाने के लिए प्रयास करने होंगे, ताकि मरीजों को जल्द से जल्द सही और सुलभ इलाज मिल सके।’

इसी बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल बुधवार को लोक नायक जय प्रकाश हस्पताल से संबद्ध शहनाई बैंक्वेट हॉल का निरीक्षण किया जहाँ 100 बेड का अस्थाई कोविड केयर सेंटर बनाया गया है।

Leave a Reply