दिल्ली में कोरोना एक लाख के पार, बोले केजरीवाल- घबराने की जरूरत नहीं

दिल्ली, एमएम : दिल्ली में कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है। हालांकि पिछले तीन दिन से नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में कमी देखने को मिली है। सोमवार को 1379 नए मरीज रिपोर्ट किए गए हैं। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या अब एक लाख 823 हो गई है। दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख को पार कर गई है। बतादें कि महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद एक लाख से अधिक मरीजों वाला दिल्ली तीसरा राज्य बन गया है। दिल्ली सरकार की हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, बीते 24 घंटे में कोरोना के 1379 नए मामले सामने आए हैं।

सोमवार शाम को जारी हुई बुलेटिन के मुताबिक, बीते 24 घंटे में 48 मौत हुई है। इस तरह कोरोना महामारी की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या अब 3115 हो गई है। कुल मामलों में से 72 हजार 88 मरीज इलाज के बाद पूर्णतः ठीक हो चुके हैं। दिल्ली में फिलहाल कोरोना के 25 हजार 620 सक्रिय मामले हैं, जिनका इलाज चल रहा है।

बीते कुछ दिनों से दिल्ली में कोरोना के नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है। आज काफी दिनों बाद दो हजार से भी कम संक्रमित मिले हैं। इससे पहले रोज दो हजार से अधिक नए मामले दर्ज हो रहे थे।

अगर टेस्टिंग की बात करें तो दिल्ली में आज 13 हजार 879 सैंपल की जांच हुई है। इसमें से 5327 सैंपल आरटीपीसीआर और 8552 सैंपल की जांच रैपिड एंटीजन टेस्ट के माध्यम से हुई है। अभी तक दिल्ली में कुल 6 लाख 57 हजार 383 सैंपल की जांच हो चुकी है। प्रति दस लाख व्यक्ति दिल्ली में 34 हजार 599 सैंपल की जांच हो रही है।

सीएम बोले- घबराने की जरूरत नहीं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि कोरोना से घबराने की जरूरत नहीं है। भले ही दिल्ली में मरीजों की संख्या लगभग एक लाख हो चुकी है, लेकिन राहत वाली बात यह है कि इनमें से लगभग 72 हजार लोग ठीक हो चुके हैं। इसका मतलब है कि लोग बीमार हो रहे हैं और ठीक होते जा रहे हैं।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में रोज 20 से 24 हजार के बीच जांच हो रही है। दिल्ली में इस समय कोरोना के 15 हजार बेड है। कोविड के सारे अस्पतालों में मिलाकर केवल 5100 बेड पर मरीज हैं। पिछले हफ्ते 6200 मरीज थे जो आज घटकर 5100 रह गए हैं। अस्पतालों में मरीज कम हुए हैं। लोग ठीक होकर घर जा रहे हैं। दिल्ली में अब जांच और इलाज दोनों की कोई समस्या नहीं है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर लोग घर पर ठीक हो रहे हैं। दिल्ली में अभी 25 हजार सक्रिय कोरोना मरीज हैं। इसमें 15 हजार लोग घरों में इलाज करा रहे हैं। मौत के आंकड़ों में भी कमी आई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि  पिछले हफ्ते हमने प्लाज्मा बैंक शुरू किया था। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं आ जाती है, तब तक कोरोना का इलाज नहीं है। तब तक प्लाज्मा जिसका ट्रायल किया गया था उससे पता चला है कि प्लाज्मा से कोरोना मरीज को मदद मिलती है। उन्होंने कोरोना के मरीजों से अपील है कि जब आप ठीक होकर जाएं तो प्लाज्मा डोनेट जरूर करें। 14 दिन बाद  प्लाज्मा डोनेट करने के लिए जरूर आगे आएं। उन्होंने बताया कि मैं खुद कई लोगों बात की है। सब दान करने को तैयार है।

Leave a Reply