विधानसभा चुनाव : नीतीश को बड़ा झटका, पूर्व मंत्री श्याम रजक ने थामा लालू का लालटेन, कहा- 99 फिसदी लोग जदयू में नीतीश से नाराज

पटना, एमएम : बिहार विधानसभा चुनाव का अभी कोई आधिकारिक ऐलान नहीं हुआ है। फिर भी बिहार में राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। पाला बदलने का सिलसिला शुरू हो चूका है। ये सत्ताधारी दल का ही नहीं लगभग सभी दलों में ऐसे ही हालात हैं। विधायकों व नेताओं का पाला बदलना जारी है। सभी दल अपने-अपने विधायकों व अन्‍य नेताओं पर नजर रख रहे हैं।

इस बीच जदयू से निष्काषित नेता और बिहार सरकार में मंत्री रहे श्याम रजक अपने पुराने घर राजद में  11 साल बाद फिर से वापस आ गए। पटना में प्रेस कांफ्रेस के बीच तेजस्वी यादव ने उन्हें पार्टी में शामिल किया।

राजद में विधिवत शामिल होने के बाद श्याम रजक ने कहा कि जनता दल यूनाइटेड (जदयू) में लगभग 99 प्रतिशत लोग बिहार के सीएम नीतीश कुमार से नाराज हैं, लेकिन वे कोई निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं दूसरों के बारे में नहीं जानता, लेकिन मैं राष्ट्रीय जनता दल में शामिल हो हुआ हूं। उन्होंने कहा कि मैं वहां नहीं रह सकता जहां सामाजिक न्याय छीना जा रहा हो।

बतादें कि पिछले एक हप्ते से सियासी गलियारों में चर्चा थी कि श्याम रजक घर वापसी करने जा रहे हैं। इन तमाम अटकलों के बीच रविवार को आनन-फानन में जदयू के प्रदेश अध्यक्ष ने श्याम रजक को पार्टी के प्राथमिक सदस्यता रद्द कर दिया। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने भी राज्यपाल को अनुशंशा की थी की श्याम रजक को मंत्री पड़ से हटाया जा रहा है। जिस पर राज्यपाल ने अपनी मुहर लगा दी थी।

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक उठापटक और दल बदल का खेल शुरू हो गया है। एक ओर जहां राजद से निष्काषित तीन विधायक जदयू का दामन थामने जा रहे हैं वहीं कभी राजद में कद्दावर नेता रहे और वर्तमान में जदयू सरकार में मंत्री रहे श्याम रजक फिर से अपनी पुरानी पार्टी ज्वाइन कर लिया है।

जनता दल यूनाइटेड  से इस्‍तीफा देने की घोषणा करने के बाद पार्टी व मंत्रिमंडल से हटाए गए श्‍याम रजक सोमवार को 11 साल बाद फिर राष्‍ट्रीय जनता दल  में शामिल हो गए। इसके पहले उन्‍होंने विधायकी भी छोड़ दी। मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने नीतीश कुमार पर जमकर भड़ास निकाली। पार्टी के संविधान का हवाला देते हुए उन्‍होंने अपने निष्कासन को भी गैरकानूनी करार दिया।

बता दें कि श्याम रजक एक समय में लालू प्रसाद यादव के करीबी नेताओं में गिने जाते थे और वह राबड़ी देवी सरकार में मंत्री भी थे। 2009 में राष्ट्रीय जनता दल को छोड़कर श्याम रजक जेडीयू में शामिल हुए थे। जेडीयू के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़े और मंत्री बने। बिहार में अहम दलित चेहरे के रूप में जाने जाने वाले श्याम रजक फिर राष्ट्रीय जनता दल में वापसी कर चुके हैं।

इस बीच राजनीतिक गलियारे में यह चर्चा भी है कि पूर्णिया इलाके के एक मंत्री भी इस्तीफा देने का मन बना चुके हैं और वे  भी आरजेडी में जा सकते हैं।

Leave a Reply