चुनावी मोड में कांग्रेस, शकील अहमद को मिल सकती है बड़ी जिम्मेवारी, अल्पसंख्यकों को साधने की तैयारी

पटना, एमएम : बिहार विधानसभा चुनाव में महज दो महीने का वक्त बचा  है और कांग्रेस अब पूरी तरह चुनावी मोड में आ चुकी है। एक सितंबर को होने वाली कांग्रेस की वर्चुअल रैली की तैयारी पूरी हो चुकी है। लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन के बाद इसे तीन दिन के लिए टाल दिया गया है। रैली को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत पार्टी के कई बड़े नेता संबोधित करेंगे। वर्चुअल रैली में राज्य के बाहर मौजूद कांग्रेस नेताओं को रहने का आदेश दिया गया है। सभी बड़े नेताओं को इसकी जिम्मेदारी दी गई है।

बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने बताया कि रैली में राहुल गांधी के अलावा कई मंत्री और नेता शामिल रहेंगे। कोरोना के चलते फिजिकल रैली करना संभव नहीं है। ऐसे में वर्चुअल रैली के जरिये पार्टी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक संदेश पहुंचाना चाहती है। उन्होंने बताया कि राहुल गांधी बाढ़ के वक्त भी बिहार आना चाहते थे लेकिन, कोरोना के चलते और सुरक्षा कारणों से उनका दौरा टाल दिया गया।

3 सितंबर को कांग्रेस नेता शकील अहमद बिहार दौरे पर आएंगे। बतादें कि पिछले हप्ते ही इनकी कांग्रेस में वापसी हुई है और चर्चाएं गर्म है की उनको बड़ी जिमेवारी दी जा सकती है। इस बीच खबर है कि वे पार्टी के सभी बड़े नेताओं के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक में कांग्रेस अल्पसंख्यकों को साधने का प्लान तैयार करेगी। कांग्रेस की यह कोशिश होगी कि मुस्लिम बहुल अधिक से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा जाए। सीमांचल को लेकर पार्टी खास तौर पर तैयारी कर रही है।

Leave a Reply