गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत हर पंचायत में खर्च होंगे 3.43 करोड़ रुपये : नीतीश कुमार

पटना, एमएम : शनिवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार के खगड़िया जिले से गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत किया था। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने प्रवासी मजदूर जो अपने घर वापिस आए हैं उनसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात भी की थी। प्रधानमंत्री ने कहा था सभी को उनके जिले में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। इससे मजदूरों को आर्थिक लाभ होगा और उस गांव का विकास भी। इसी कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी शामिल थे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत छह राज्यों के 116 जिले में की गई है। इसमें बिहार के 38 में से 32 जिले शामिल हैं। इसमें उन जिलों को शामिल किया गया है, जहां बाहर से 25 हजार या उससे अधिक लोग वापस आए हैं। केंद्र सरकार इस पर 50 हजार करोड़ खर्च कर रही है। इस अभियान के तहत एक पंचायत में तीन करोड़ 43 लाख खर्च होंगे। खगड़िया से अभियान का शुभारंभ करने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत 25 कार्य क्षेत्रों को शामिल किया गया है। इसमें कार्य की अवधि अभी 125 दिनों की है। राज्य सरकार भी अपनी तरफ से तेलिहार ग्राम पंचायत में दो करोड़ 30 लाख की योजना की शुरुआत कर रही है, जिसका शुभारंभ भी प्रधानमंत्री के हाथों हुई। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान काफी प्रशंसनीय है। लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिये राज्य सरकार भी लगातार प्रयास कर रही है। मनरेगा, सड़क निर्माण कार्य एवं अन्य विकास कार्यों के साथ-साथ सात निश्चय की योजनाओं, जल-जीवन- हरियाली अभियान की योजनाओं के तहत राज्य के श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से कहा कि लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में काम करने वाले बिहार के श्रमिकों को काफी कष्ट हुआ। केन्द्र सरकार द्वारा प्रावधानों में बदलाव के बाद दूसरे जगहों पर फंसे लोगों को अपने राज्य में वापस जाने के लिये श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलायी गयीं। इन ट्रेनों के माध्यम से 20 लाख से ज्यादा लोग बिहार वापस आए। हमलोगों की कोशिश है कि मजबूरी में किसी को भी बिहार के बाहर नहीं जाना पड़े। लोगों को यहीं रोजगार मिले।

Leave a Reply