‘आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा’, मुंबई पहुंचते ही उद्धव पर गरजीं कंगना

मुंबई, एमएम : अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में बेवाक टिप्पणी करने के कारण कंगना रनौत इस समय काफी चर्चा में हैं। हालांकि मौजूदा विवाद के पीछे उनका पीओके वाला बयान है। बीते दिनों कंगना ने मुंबई पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए थे और कहा था कि उन्‍हें मुंबई से डर लगात है कि क्‍योंकि वहां हालात पीओके जैसे हो गए हैं। कंगना के इस बयान से महाराष्ट्र में भारी बवाल शुरू हो गया था। इस मामले को लेकर कंगना और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच ट्विटर वार भी हुआ। यहाँ तक कि संजय राउत ने तो उन्हें मुंबई नहीं आने की सलाह भी दे दी थी।

इस जारी विवाद के बीच वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा में कंगना रनौत बुधवार दोपहर मुंबई पहुंच गईं। हंगामे के आसार देखते हुए एयरपोर्ट के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। मुंबई पहुंचते ही कंगना को शिवसेना के विरोध का सामना करना पड़ा। उन्हें काले झंडे भी दिखाए गए। लेकिन करणी सेना ने कंगना के समर्थन में नारे लगाए। एयरपोर्ट पर कड़ी सुरक्षा व्यस्था के बीच कंगना अपने घर पहुंच चुकी हैं। कंगना रनौत और महाराष्ट्र सरकार के बीच जुबानी जंग जारी है। इस बीच बीएमसी ने कंगना के ऑफिस के कथित अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया। जिसके खिलाफ कंगना ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जहां से उन्हें राहत मिली। बॉम्बे हाईकोर्ट ने कंगना की याचिका पर सुनवाई करते हुए अपना फैसला सुना दिया। कोर्ट ने कंगना के दफ्तर पर बीएमसी की तोड़फोड़ पर रोक लगा दी और बीएमसी से जवाब मांगा है।

इधर एक के बाद एक ट्वीट करती कंगना ने अपने विरोधियों को जमकर लताड़ लगाई है। घर पहुंचने के बाद एक्ट्रेस ने सबसे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए एक वीडियो शेयर किया है। कंगना रनौत इस वीडियो में कहती नजर आ रही हैं कि उद्धव ठाकरे तुझे क्या लगता है कि तुने फिल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़ दिया। मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है। आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा। ये वक्त का पहिया है, याद रखना।

इससे पहले घर तोड़े जाने को लेकर कंगना ने ट्वीट कर कहा, ‘मणिकर्णिका फिल्म्ज में पहली फिल्म अयोध्या की घोषणा हुई, यह मेरे लिए एक इमारत नहीं राम मंदिर ही है, आज वहां बाबर आया है, आज इतिहास फिर खुद को दोहराएगा राम मंदिर फिर टूटेगा मगर याद रख बाबर यह मंदिर फिर बनेगा यह मंदिर फिर बनेगा, जय श्री राम , जय श्री राम , जय श्री राम। ‘

एक्ट्रेस का दावा है कि बीएमसी उनके ऑफिस में जबरदस्ती घुसी और उसपर अवैध निर्माण का केस बनाया। हालांकि, एक्ट्रेस ने बीएमसी की कार्रवाई के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जहां से राहत मिली। अब कंगना रनौत की फिल्म मणिकर्णिका को-स्टार अंकिता लोखंडे ने एक्ट्रेस को सपोर्ट करते हुए एक पोस्ट लिखी है। अंकिता ने कंगना को ‘बहादुर’ कहा है।

इस पुरे मसले पर राजनीतिक प्रतिक्रिया भी आई है। बीएमसी की इस कदम पर महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी एनसीपी के  मुखिया शरद पवार ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि बीएमसी ने अपने डिमॉलिशन ड्राइव से मुद्दे को ‘गैरजरूरी पब्लिसिटी’ दे दी है। हमें ऐसी चीजों को नज़रअंदाज करना चाहिए। मुंबई में अवैध निर्माण करना कोई नई चीज नहीं है। लेकिन इसपर चल रहे विवाद के बीच में ही एक्शन लेने से सवाल पैदा हो रहे हैं।

लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा है कि सभी देशभक्त कंगना रनौत के साथ हैं। बिहारी लड़के (सुशांत सिंह राजपूत) की लड़ाई लड़ने के साथ बॉलीवुड की सच्चाई बताने पर कई लोग कंगना के ख़िलाफ़ हो गए हैं। महाराष्ट्र भी भारतीय संविधान के अंतर्गत आने वाला प्रदेश है। आज कंगना के साथ जो हुआ है, वह कल पूरे देश के विभिन्न प्रान्तों से आये लोगों के साथ हो सकता है। मुंबई को सभी ने मिलकर बनाया है। किसी अकेले की विरासत नहीं है।

फडणवीस ने कहा बीएमसी ने कंगना के साथ जो किया वो गलत है। इससे महाराष्ट्र की छवि देशभर में खराब हो रही है। महाराष्ट्र सरकार की कार्रवाई दुर्भाग्यपूर्ण है। कंगना ने केवल सवाल उठाया था।

एक अंग्रेजी दैनिक के मुताबिक संजय राउत ने बयान में कहा है कि उन्होंने कभी कंगना रनौत को धमकी दी ही नहीं। मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से करने पर उन्होंने सिर्फ आपत्ति जताई थी। संजय राउत ने कहा, ‘कंगना, मुंबई में रह सकती हैं। मेरा बीएमसी की कार्रवाई में कोई लेनादेना नहीं है। मैंने कभी कंगना रनौत को धमकी नहीं दी। मैंने सिर्फ अपना गुस्सा जाहिर किया, वह भी उनके द्वारा दिए गए बयान पर। मेरे लिए विवाद खत्म हो चुका है। कंगना का मुंबई में रहने के लिए स्वागत है।’

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने कहा कि ऐसा लगता है कंगना ने भारतीय जनता पार्टी जॉइन कर ली है, इसलिए शिवसेना कंगना रनौत पर हमला बोल रही है। जब आप राजनीति करेंगे तो निश्चित तौर से दूसरी ओर से भी आप पर हमला बोला जाएगा।

वहीं कंगना रनौत के सपोर्ट में कई सेलेब्स सामने आए हैं। कंगना रनौत के सपोर्ट में सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति उतरी हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘आज मैं कंगना रनौत के साथ खड़ी हूं। कंगना न सिर्फ खुद के लिए चीजें बना रही हैं बल्कि कई महिलाओं के लिए उम्मीद की किरण बन रही हैं। उनके साथ, आप, मैं, हम सब कर सकते हैं। यह पैट्रिआर्की है, महिला की इज्जत को मिट्टी में मिलाना, उसके द्वारा बनाई चीजों को तोड़ना और सेल्फ रिस्पेक्ट को चोट पहुंचाना।’ इसके अलावे अंकिता लोखंडे, फिल्म निर्देशक हंसल मेहता, अपूर्वा असरानी और दीया मिर्जा भी सपोर्ट में कड़ी दिखाई दे रहे हैं।

इधर अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत और बीएमसी ही नहीं बल्कि फ़िल्म इंडस्ट्री भी लामबंद होती जा रही है। वैसे यह पहली बार नहीं हुआ है जब इंडस्ट्री कंगना के खिलाफ नज़र आ रही है। हृतिक रोशन के साथ वाला विवाद हो या करण जौहर का मुद्दा कंगना रनौत लगभग इंडस्ट्री में अलग थलग ही नज़र आईं हैं। लेकिन सुशांत सिंह राजपूत केस के बाद कंगना की लगातार बयानबाज़ी के बाद यह लामबंदी साफ तौर पर बढ़ती नज़र आ रही है।

जाने माने सिनेमाटोग्राफर पीसी श्रीराम ने कंगना रनौत के साथ वाली एक फ़िल्म में काम करने से इनकार कर दिया। उन्होंने बकायदा अपने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी। श्रीराम ने ट्वीट किया, ‘एक फिल्म को रिजेक्ट कर दिया, क्योंकि उसमें कंगना रनौत लीड रोल में थीं. अपने अंदर मुझे असहज महसूस हो रहा था और निर्माताओं को भी मैंने अपना रुख समझाया। वे समझ गए. कभी-कभी यह सिर्फ उस बारे में होता है कि आपको क्या सही लगता है। उन्हें शुभकामनाएं। हालांकि इस पर कंगना ने जबाब में लिखा कि आप जैसे लीजेंड के साथ काम करने का अवसर चूक गया, यह पूरी तरह से मेरा घाटा है, मुझे नहीं पता कि आपको मेरे बारे में क्या असहज लगा, लेकिन मुझे खुशी है कि आपने सही फैसला लिया, आप को शुभकामनाएं.

अगर फिल्मों की बात करें तो कंगना के पास फिलहाल तीन फिल्में हैं थलाइवी,तेजस,धाकड़. जयललिता की बायोपिक थलाइवी जिसकी शूटिंग लॉक डाउन की वजह से अटक गयी है। फ़िल्म तेजस दिसंबर में शूटिंग फ्लोर पर जाने की बात है।

Leave a Reply